Home » Latest » कोरोना वायरस लॉकडाउन : आईआरसीटीसी ने कहा यात्री ई-रेल टिकट खुद रद्द न करें
#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

कोरोना वायरस लॉकडाउन : आईआरसीटीसी ने कहा यात्री ई-रेल टिकट खुद रद्द न करें

Corona virus lockdown: IRCTC said passengers should not cancel e-rail tickets themselves

नई दिल्ली, 25 मार्च 2020 : भारतीय रेल खान-पान एवं पर्यटन निगम– Indian Railway Catering & Tourism Corporation Ltd.  Largest e commerce portal of Asia Pacific, (आईआरसीटीसी) ने कहा है कि देश भर में लॉकडाउन के कारण रेलवे द्वारा ट्रेन रद्द करने की सूरत में वे अपने ई-रेल टिकट को खुद रद्द न करें। कोरोना वायरस के प्रकोप की रोकथाम (Corona virus outbreak prevention) के मददेनजर देश में तीन सप्ताह के लिए लॉकडाउन (#CoronavirusLockdown, #21daylockdown) कर दिया गया है और इस दौरान सड़क एवं रेल यातायात बंद कर दिया गया है।

आईआरसीटीसी ने कहा कि रेलवे द्वारा परिचालित पैसेंजर ट्रेनों की सेवा बंद करने के बाद ई-टिकट खरीदने वाले यात्रियों को टिकट का रिफंड स्वत: मिल जाएगा इसके लिए उनको ई-टिकट रद्द करने की आवश्यकता नहीं है।

उन्होंने कहा कि अगर यात्री ई-टिकट रद्द (E-ticket canceled) करते हैं तो संभव है कि रिफंड कम मिलेगा। इसलिए यात्रियों को सलाह दी जाती है कि वे ट्रेन रद्द होने की सूरत में वे अपने ई-टिकट खुद रद्द न करें।

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …