Home » Latest » कोरोना : शौचालय की सीट से अधिक गंदे हो सकते हैं आपके मोबाइल फोन, उनको भी करें सैनिटाइज
Things you should know

कोरोना : शौचालय की सीट से अधिक गंदे हो सकते हैं आपके मोबाइल फोन, उनको भी करें सैनिटाइज

Coronavirus Outbreak : Disinfect Your Smartphone

नई दिल्ली 15 मार्च 2020. दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा (Risk of corona virus infection) बढ़ता जा रहा है और ऐसे में हमारे हाथों में रहने वाले स्मार्ट फोन संक्रमण का एक बड़ा कारण बन सकते हैं।

भारतीय चिकित्सा अनुसन्धान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने एक चैनल पर बताया कि हम अपने हाथों को बार-बार धोते हैं लेकिन हमारे हाथों में स्मार्ट फोन इस संक्रमण का बड़ा खतरा बन सकते हैं। ये फोन शौचालय की सीट से अधिक गंदे हो सकते हैं लिहाजा उन्हें सैनिटाइज करने की जरूरत है।

उन्होंने बताया कि जिस व्यक्ति को कोरोना संक्रमण हुआ है, वह बात करने के लिए मोबाइल का इस्तेमाल करे और अगर खांसते या छींकते समय तरल पदार्थ मोबाइल की बाहरी सतह पर गिर जाये तो यह उसके परिजनों को संक्रमित कर सकता है।

Pour few drops of sanitizer on a tiny clean cotton pad and rub it safely on your entire phone.

उन्होंने बताया कि ऐसे मरीजों को मोबाइल का प्रयोग कम करना चाहिए क्योंकि कोरोना एक ड्रॉपलेट इन्फेक्शन है।

उन्होंने कहा कि सावधानी बहुत जरूरी है और कपड़े पर सैनिटाइजर लगाकर मोबाइल फ़ोन को साफ़ कर देना चाहिए।

 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …