पाँच हजार पार हुए देश में कोरोनोवायरस के मामले, अब तक 149 मौतें

Coronovirus cases exceeded five thousand, 149 deaths so far

नई दिल्ली, 8 अप्रैल 2020 : स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की जानकारी के मुताबिक भारत में 21 दिन के लॉकडाउन के तीसरे सप्ताह में, बुधवार को कोरोनोवायरस के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 5,194 हो गई है।

इनमें से 4643 कोविड-19 के सक्रिय मामले हैं, वहीं 401 व्यक्ति ठीक हो चुके हैं और इन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। वहीं एक व्यक्ति दूसरे देश जा चुका है और 149 लोग इस बीमारी के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं।

कुल प्रभावित लोगों में 70 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं।

Maharashtra worst affected by Corona virus

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, इस वायरस से महाराष्ट्र सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ और यहां कुल 1018 पॉजिटिव मामले सामने आए। इसके बाद तमिलनाडु में 690 मामले आए।

वहीं आंध्र प्रदेश में 305 लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं जबकि 4 लोगों की मौत हुई है।

अंडमान निकोबार में 10 कोरोना पीड़ित हैं। अरुणाचल प्रदेश में 1, असम में 27 और बिहार में 38 लोग इस बीमारी से पीड़ित हुए हैं। बिहार में एक की मौत की सूचना है, जबकि चंडीगढ़ में 18, छत्तीसगढ़ में 10 लोग इस बीमारी से पीड़ित पाए गए हैं।

इस बीच दिल्ली में कोरोना पीड़ितों की संख्या 576 पहुंच गई है, 21 लोगों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया चुका है और 9 लोगों की मौत हो गई है।

गोवा में सिर्फ 7 लोग बीमारी से पीड़ित हैं।

गुजरात में 165 लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं 25 को डिस्चार्ज किया जा चुका है जबकि 13 की मौत हुई है।

हरियाणा में 147 लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं, 28 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां 3 की मौत हुई है। हिमाचल प्रदेश में 18 लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं और 2 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां एक व्यक्ति की मौत हुई है।

जम्मू कश्मीर में ये आंकड़ा तेजी से बढ़ा है। यहां 116 लोग कोरोना से संक्रमित है जबकि 2 की मौत हुई है।

झारखंड में अब तक सिर्फ 4 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। कर्नाटक में 175 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है, इसमें से 25 को डिस्चार्ज किया जा चुका है जबकि 4 की मौत हुई है।

केरल में 336 कोरोना पीड़ित पाए गए हैं, जिनमें से 70 को डिस्चार्ज किया चुका है। वहीं 2 की मौत हो गई है।

लद्दाख में 14 लोगों को कोरोना होने की पुष्टि हुई है जिसमें से 10 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

मध्यप्रदेश में ये आंकड़ा 229 पहुंच गया है, यहां 13 लोगों की मौत हुई है।

देश में सबसे अधिक मौत महाराष्ट्र में हुई है जहां 64 लोग इस बीमारी के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक यहां 1018 लोग इस बीमारी से पीड़ित हुए, जिनमें से 79 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है।

मणिपुर में 2, मिजोरम में 1, उड़ीसा में 42 लोग इस बीमारी से पीड़ित हुए हैं। यहां 1 व्यक्ति की मौत भी हुई है। पुडुचेरी में 5 लोग कोरोना पीड़ित बताये गये हैं।

पंजाब में 91 लोग इस वायरस से पीड़ित हैं, 7 की मौत हुई है। वहीं 4 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। जबकि राजस्थान में यह आंकड़ा बढ़कर 328 हो गया है, 3 लोगों की मौत हुई है और 1 को डिस्चार्ज किया जा चुका है।

तमिलनाडु में यह आंकड़ा तेजी से बढ़ा है 690 लोग इस बीमारी से पीड़ित पाए गए। इनमें से 19 को डिस्चार्ज किया जा चुका है जबकि 7 लोगों की मौत हुई है। तेलंगाना में भी 364 लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं, 35 को डिस्चार्ज किया गया, जबकि 7 लोग की मौत हुई है।

उत्तर प्रदेश में 326 लोग कोरोना से पीड़ित है, 21 को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां 3 की मौत हुई है। उत्तराखंड में 31 लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं, इनमें से 5 को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। उधर पश्चिम बंगाल में यह आंकड़ा बढ़कर 99 हो गया है, जिनमें 13 को डिस्चार्ज किया जा चुका है जबकि 5 की मौत हो गई है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations