कोविड-19 : केजरीवाल ने माना दिल्ली में 31 जुलाई तक अस्सी हजार बेड की जरूरत

COVID-19: Kejriwal admits to needing eighty thousand beds by July 31 in Delhi

नई दिल्ली, 10 जून 2020. दिल्ली के अस्पतालों में कोरोना रोगियों के उपचार (Treatment of corona patients in hospitals in Delhi) हेतु डेढ़ लाख बेड की आवश्यकता होगी। 31 जुलाई तक दिल्ली में 80000 बेड की व्यवस्था की जानी है। अतिरिक्त बेड के लिए दिल्ली सरकार दिल्ली के विभिन्न स्टेडियमों का इस्तेमाल कर सकती है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा,

“दिल्ली सरकार ने थोड़े समय के लिए दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली वालों का कोरोना उपचार करने का निर्णय लिया था। केंद्र सरकार और उपराज्यपाल ने यह फैसला पलट दिया है। इसके बाद अब हमारी चुनौती बहुत बड़ी हो गई है। हमें दिल्ली में रहने वालों और दिल्ली के बाहर से आने वाले रोगियों के उपचार की व्यवस्था करनी होगी।”

मुख्यमंत्री ने कहा,

“जहां पहले 15 जुलाई तक 33 हजार बेड की आवश्यकता थी अब वहीं 15 जुलाई तक 65,000 रोगियों के लिए बेड की आवश्यकता होगी। 31 जुलाई तक पहले हमने 80,000 रोगियों के लिए बेड की आवश्यकता का आकलन किया था। अब यह आवश्यकता लगभग डेढ़ लाख बेड की होगी।”

दिल्ली सरकार के मुताबिक, जुलाई अंत तक दिल्ली में कोरोना के लगभग साढे पांच लाख रोगी होंगे। इतनी बड़ी संख्या में रोगियों के उपचार एवं बेड की आवश्यकता को पूरा करने के लिए दिल्ली सरकार दिल्ली के विभिन्न स्टेडियमों में बेड लगाएगी।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा,

“यह चुनौती बहुत बड़ी है। इतनी बड़ी विपदा मानव जाति के इतिहास में पहले कभी नहीं आई। मैं अब खुद बाहर निकलूंगा और हम स्टेडियम और बैंक्वेट्स आदि को कोरोना रोगियों के उपचार हेतु तैयार करवाएंगे।”

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के पड़ोसी राज्य से भी अपील की कि वे अपने-अपने राज्यों में कोरोना रोगियों के उपचार की समुचित व्यवस्था करें।

केजरीवाल ने कहा,

“दिल्ली के पड़ोसी राज्य कोरोना रोगियों के उपचार की व्यवस्था करें। विभिन्न राज्य ऐसा कर भी रहे होंगे ताकि कम से कम कोरोना रोगी दिल्ली आए।”

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के मुताबिक सामान्य दिनों में दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में लगभग 50 प्रतिशत लोग दूसरे राज्यों से आते हैं। अब जब दिल्ली के अस्पतालों में सभी के उपचार की अनुमति दी जा चुकी है तो जितने रोगी दिल्ली के हैं लगभग उतने ही दूसरे रोगियों के दूसरे राज्यों से भी आने की संभावना हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations