माले ने कामरेड विनोद मिश्र की 22वीं पुण्यतिथि मनाई

"इतिहास में प्रमुख महत्व के सवालों का समाधान केवल सड़कों पर ही हुआ है।" कामरेड विनोद मिश्र का यह कथन अभी उठ खड़े किसान आंदोलन के संदर्भ में भी प्रासंगिक है।

CPI (ML) celebrated 22nd death anniversary of comrade Vinod Mishra

लखनऊ, 18 दिसंबर। भाकपा (माले) के पूर्व महासचिव कामरेड विनोद मिश्र की 22वीं पुण्यतिथि संकल्प दिवस के रूप में शुक्रवार को उत्तर प्रदेश सहित देशभर में मनाई गई।

इस मौके पर हाल के बिहार विधानसभा चुनाव में पार्टी को मिली शानदार उपलब्धियों को आगे बढ़ाने, दिल्ली के गिर्द जारी किसान आंदोलन के संदेश को यूपी के गांवों तक पहुंचाने और मोदी सरकार के फासीवादी खतरे का डटकर मुकाबला करने का संकल्प लिया गया।

वक्ताओं ने कामरेड विनोद मिश्र को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए जनता व जन आंदोलनों पर भरोसा करने की उनकी सीख और भारतीय साम्यवादी आंदोलन में उनके अविस्मरणीय योगदान को उन्हीं की इन पंक्तियों के साथ याद किया, “……इतिहास में प्रमुख महत्व के सवालों का समाधान केवल सड़कों पर ही हुआ है।” उनका यह कथन अभी उठ खड़े हुए किसान आंदोलन के संदर्भ में भी प्रासंगिक है।

राजधानी लखनऊ में पार्टी राज्य कार्यालय में आयोजित कार्यकर्ताओं की बैठक में कामरेड विनोद मिश्र को श्रद्धांजलि दी गयी। फैजाबाद, रायबरेली, बनारस, चंदौली, गाजीपुर, मिर्जापुर, सोनभद्र, मऊ, बलिया, देवरिया, गोरखपुर, बस्ती, महराजगंज, आजमगढ़, इलाहाबाद, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, पीलीभीत, कानपुर, जालौन, मथुरा, मुरादाबाद आदि जिलों में भी संकल्प दिवस मनाया गया।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations