Home » समाचार » देश » Corona virus In India » उत्सवजीवी नाकारा सरकार पर राहुल का हमला- शमशान और कब्रिस्तान दोनों मोदी द्वारा मचाई गई तबाही
Rahul Gandhi

उत्सवजीवी नाकारा सरकार पर राहुल का हमला- शमशान और कब्रिस्तान दोनों मोदी द्वारा मचाई गई तबाही

शमशान और कब्रिस्तान दोनों मोदी द्वारा मचाई गई तबाही : राहुल

नई दिल्ली , 17 अप्रैल 2021 देश में कोरोना (Corona virus In India) विकराल रूप लेता जा रहा है वो चिंता का विषय बन गया है। सरकार एकदम नाकारा साबित हुई है। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमितों के लिए शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला किया।

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि यह मोदी द्वारा मचाई गई तबाही है।

उन्होंने ट्वीट किया,

“शमशान और कब्रिस्तान– जो कहा सो किया (अंतिम संस्कार और अंत्येष्टि दोनों, जो वादा किया गया था, उसे पूरा किया)। ModiMadeDisaster”

अस्पतालों में बेड और वेंटिलेटर की कमी की रिपोर्ट के बाद से राहुल गांधी ने गुरुवार से सरकार पर हमला तेज कर दिया है।

कांग्रेस नेता ने एक ट्वीट में कहा,

“अस्पताल में कोई परीक्षण नहीं हो रहा है, कोई बिस्तर नहीं है, कोई वेंटिलेटर नहीं है, कोई ऑक्सीजन नहीं है, कोई टीका नहीं है, बस उत्सव का ढोंग है पीएम केयर्स?”

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, भारत ने पिछले 24 घंटों में 2,34,692 नए कोविड-19 मामले दर्ज किए गए हैं, जो अब तक का सबसे बड़ा एकल-दिवसीय स्पाइक है।

This is the third consecutive day that more than two lakh cases have been reported in the country.

यह लगातार तीसरा दिन है जब देश में दो लाख से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं। भारत ने शुक्रवार को 2,17,353 मामले और गुरुवार को 2,00,739 नए मामले दर्ज किए हैं।

इसके अलावा पिछले 24 घंटों में नए कोविड-19 से 1,341 मौते हुई हैं, यह लगातार तीसरे दिन में एक हजार से अधिक मौते हुईं। इससे देश में कुल मृत्यु दर 1,75,649 हो गई हैं।

इस बीच, शुक्रवार को दैनिक सक्रिय मामले बढ़कर 16,79,740 हो गए थे।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …

Leave a Reply