कोरोना : मोदी सरकार सचमुच आज अपराधी के कठघरे में खड़ी है, इसे कभी भी क्षमा नहीं किया जा सकता

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

कोरोना और मोदी की अपराधपूर्ण नीतियाँ | Criminal policies of Corona and Modi

किसी भी महामारी को रोकने के लिये जिन सात बातों को प्रमुख माना गया है, जिन्हें ‘पावर आफ सेवन’ कहा जाता है, वे हैं —

  1. सभी स्तरों पर एक दृढ़ निश्चय वाले नेतृत्व को सुनिश्चित करना।
  2. एक मज़बूत स्वास्थ्य व्यवस्था का निर्माण करना।
  3. बीमारी से बचने के त्रिस्तरीय उपाय करना – निवारण (रोकथाम), सिनाख्त और उपचार।
  4. समय पर सटीक सूचना का प्रसार।
  5. उपचार के तात्कालिक बुद्धिमत्तापूर्ण उपायों पर निवेश।
  6. महामारी में बदलने के पहले ही बीमारी को रोकने के लिये ज़रूरी खर्च।
  7. नागरिकों को सतर्क और सक्रिय बनाना।

इन सातों पैमानों पर ही मोदी सरकार का अगर कोई आकलन करेगा तो उसे शून्य से ज़्यादा नंबर नहीं दे सकता है।

शुरू से ही इस सरकार ने बीमारी से लड़ने के प्रति ढीला-ढाला रुख़ अपनाया और आज तक वह अपनी इस मनोदशा से निकल नहीं पाई है। महामारी से निपटने के बजाय विरोधियों की सरकार के हथियाने और उनके नेतृत्व को परेशान करने में इसकी कहीं ज़्यादा दिलचस्पी है।

स्वास्थ्य व्यवस्था को चौपट करने में तो मोदी ने खुद सक्रिय रूप से काम किया है। चिकित्सा की सुविधाओं के बजाय उन्होंने ज़्यादा निवेश चिकित्सा बीमा की तरह की योजनाओं के झूठे प्रचार से आम लोगों को बरगलाने में किया है।

जिस सरकार का सबसे ज़्यादा ज़ोर कम से कम टेस्टिंग पर रहता हो, वह निवारण, शिनाख्त और उपचार, इन सभी स्तरों पर विफल होने के लिये अभिशप्त है।

जहां तक सूचनाओं के सही समय पर और सटीक रूप में प्रसारण का मामला है, मोदी बुनियादी तौर पर इस बात के विरुद्ध हैं। सूचनाओं को छिपाना और विकृत करना उनकी हमेशा की मूलभूत प्रकृति रही है।

उपचार के नये और तात्क्षणिक उपायों पर निवेश तो इस सरकार की कल्पना के बाहर है। वह इस मामले में अपने भाई-भतीजों को लाभ पहुँचाने को लेकर ज़्यादा चिंतित रहती है।
Arun Maheshwari - अरुण माहेश्वरी, लेखक सुप्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक, सामाजिक-आर्थिक विषयों के टिप्पणीकार एवं पत्रकार हैं। छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी राजनीति और साहित्य-आन्दोलन से जुड़ाव और सी.पी.आई.(एम.) के मुखपत्र ‘स्वाधीनता’ से सम्बद्ध। साहित्यिक पत्रिका ‘कलम’ का सम्पादन। जनवादी लेखक संघ के केन्द्रीय सचिव एवं पश्चिम बंगाल के राज्य सचिव। वह हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।
Arun Maheshwari – अरुण माहेश्वरी, लेखक सुप्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक, सामाजिक-आर्थिक विषयों के टिप्पणीकार एवं पत्रकार हैं। छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी राजनीति और साहित्य-आन्दोलन से जुड़ाव और सी.पी.आई.(एम.) के मुखपत्र ‘स्वाधीनता’ से सम्बद्ध। साहित्यिक पत्रिका ‘कलम’ का सम्पादन। जनवादी लेखक संघ के केन्द्रीय सचिव एवं पश्चिम बंगाल के राज्य सचिव। वह हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

जहां तक बीमारी को महामारी का रूप लेने से रोकने का सवाल है, मोदी ने तो अपने अविवेकपूर्ण लॉक डाउन के ज़रिये इसे महामारी की शक्ल देने में सक्रिय भूमिका अदा की है। देश के गाँव-गाँव तक फैलाने का यहाँ जैसे सुनियोजित प्रयास किया गया है।

और अंतिम, नागरिकों को सजग और सक्रिय बनाने का जहां तक मामला है, मोदी नागरिक समाज के दमन पर विश्वास करते हैं, उनकी भूमिका को किसी भी रूप में बढ़ावा देने पर नहीं।

कहना न होगा, मोदी सरकार कोरोना महामारी के संदर्भ में सचमुच आज अपराधी के कठघरे में खड़ी है। इसे जीवन में कभी भी क्षमा नहीं किया जा सकता है।

⁃       अरुण माहेश्वरी

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें