कोरोना के खिलाफ जागरुकता के लिए यूं याद आए दादामुनि अशोक कुमार

Dadamuni Ashok Kumar remembered for awareness against Corona

दिल्ली, 21 अप्रैल 2020. कोरोना वायरस से लड़ने के लिए देशवासी संगीत का सहारा ले रहे हैं. कुछ कलाकारों ने इसे आमलोगों के साथ मिलकर एक म्यूजिक वीडियो तैयार किया है. इसमें चार साल के बच्चे से लेकर 80 साल तक के लोग साथ आए हैं. वीडियो में मास्क पहनने, हाथ धोने और घर में रहने के महत्व पर जोर दिया गया है. ताकि इस कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई को और मजबूती से लड़ा जा सके.

वीडियो खास इसलिए बन गया है क्योंकि इसमें दादमुनी अशोक कुमार के सिनेमा समाधि के एक गीत से प्रेरणा ली गई है. सन 1950 में आई इस फिल्म के गीत गोरे-गोरे ओ बांके छोरे की धुन पर एक नया गीत तैयार किया गया है. बोल हैं- सुनो सुनो, सभी सुनो, सभी घर से मत निकलो…सुनो सुनो, सभी सुनो, अभी पर बैठे रहो. खास बात ये है कि उस वक्त की तरह इस गीत को ब्लैक एंड व्हाइट ही पेश किया गया है.

गीत के बोल कुछ इस तरह से है-

कोरोना से है यह अपनी लड़ाई,

इसको जल्दी बोलना है बाई-बाई,

साबुन पानी ले लो, बीस सेकेंड धो लो,

सैनिटाइजर की तो जरूरत नहीं,

पहनो-पहनो मास्क पहनो,

पड़ोसी को भी बोला करो …है.

वीडियो में दिखाया गया है कि लोग किस तरह लॉकडाउन के महत्वपूर्ण नियमों को मान रहे हैं. मास्क पहनने, साबुन से हाथ धोने पर जोर दे रहे हैं. यही नहीं, वह अपने साथ पड़ोसियों को भी इसको लेकर जागरुक कर रहे हैं.

वीडियो में यह भी दिखाया गया है कि देश की आम जनता इस वक्त कई तरह की सावधानियां बरत रही है. वो सोशल डिस्टेंस का पालन कर रही है, सफाई का ध्यान रख रही है. यही नहीं, वह साथ आकर दूसरे को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं.

बुधवार को रिलीज हुआ यह गाना एक मिनट 40 सेकेंड का है. इस गीत को तैयार किया है Turtle on a Hammock Films की गीता सिंह और अविनाश कुमार सिंह ने. वहीं वीडियो में प्रसिद्ध अभिनेत्री सुचित्रा पिल्लई ने भी अभिनय किया है. इसे गाया है चर्चित गायिका विधि शर्मा और गायक गगनदीप सिंह ने. वहीं संगीत से सजाया है बलवीर सिंह ने.

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations