Home » Latest » कोरोना के खिलाफ जागरुकता के लिए यूं याद आए दादामुनि अशोक कुमार
Dadamuni Ashok Kumar remembered for awareness against Corona

कोरोना के खिलाफ जागरुकता के लिए यूं याद आए दादामुनि अशोक कुमार

Dadamuni Ashok Kumar remembered for awareness against Corona

दिल्ली, 21 अप्रैल 2020. कोरोना वायरस से लड़ने के लिए देशवासी संगीत का सहारा ले रहे हैं. कुछ कलाकारों ने इसे आमलोगों के साथ मिलकर एक म्यूजिक वीडियो तैयार किया है. इसमें चार साल के बच्चे से लेकर 80 साल तक के लोग साथ आए हैं. वीडियो में मास्क पहनने, हाथ धोने और घर में रहने के महत्व पर जोर दिया गया है. ताकि इस कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई को और मजबूती से लड़ा जा सके.

वीडियो खास इसलिए बन गया है क्योंकि इसमें दादमुनी अशोक कुमार के सिनेमा समाधि के एक गीत से प्रेरणा ली गई है. सन 1950 में आई इस फिल्म के गीत गोरे-गोरे ओ बांके छोरे की धुन पर एक नया गीत तैयार किया गया है. बोल हैं- सुनो सुनो, सभी सुनो, सभी घर से मत निकलो…सुनो सुनो, सभी सुनो, अभी पर बैठे रहो. खास बात ये है कि उस वक्त की तरह इस गीत को ब्लैक एंड व्हाइट ही पेश किया गया है.

गीत के बोल कुछ इस तरह से है-

कोरोना से है यह अपनी लड़ाई,

इसको जल्दी बोलना है बाई-बाई,

साबुन पानी ले लो, बीस सेकेंड धो लो,

सैनिटाइजर की तो जरूरत नहीं,

पहनो-पहनो मास्क पहनो,

पड़ोसी को भी बोला करो …है.

Dadamuni Ashok Kumar remembered for awareness against Corona वीडियो में दिखाया गया है कि लोग किस तरह लॉकडाउन के महत्वपूर्ण नियमों को मान रहे हैं. मास्क पहनने, साबुन से हाथ धोने पर जोर दे रहे हैं. यही नहीं, वह अपने साथ पड़ोसियों को भी इसको लेकर जागरुक कर रहे हैं.

वीडियो में यह भी दिखाया गया है कि देश की आम जनता इस वक्त कई तरह की सावधानियां बरत रही है. वो सोशल डिस्टेंस का पालन कर रही है, सफाई का ध्यान रख रही है. यही नहीं, वह साथ आकर दूसरे को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं.

बुधवार को रिलीज हुआ यह गाना एक मिनट 40 सेकेंड का है. इस गीत को तैयार किया है Turtle on a Hammock Films की गीता सिंह और अविनाश कुमार सिंह ने. वहीं वीडियो में प्रसिद्ध अभिनेत्री सुचित्रा पिल्लई ने भी अभिनय किया है. इसे गाया है चर्चित गायिका विधि शर्मा और गायक गगनदीप सिंह ने. वहीं संगीत से सजाया है बलवीर सिंह ने.

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …