Home » समाचार » तकनीक व विज्ञान » दिल्ली : 30 विधानसभा क्षेत्रों से करीब 2 लाख लोगों ने ‘क्लीन एयर कैंपेन’ का समर्थन किया
Dilli Dhadakne Do

दिल्ली : 30 विधानसभा क्षेत्रों से करीब 2 लाख लोगों ने ‘क्लीन एयर कैंपेन’ का समर्थन किया

Delhi: Approx. 2 lakh people from 30 assembly constituencies supported ‘clean air campaign’

दिल्ली में क्लीन एयरके लिए 25 विधानसभा क्षेत्रों के 48 प्रत्याशियों ने संकल्प लिया

नई दिल्ली, 5 फरवरी, 2020: कई सप्ताह के अनवरत अभियान और सामुदायिक भागीदारी के साथ ‘दिल्ली धड़कने दो’ कैंपेन ने लाखों दिल्लीवासियों को सफलतापूर्वक जोड़ा, जिनमें विभिन्न पार्टियों के प्रत्याशी, मतदाता और सिटीजन ग्रुप्स प्रमुख थे। आने वाले दिनों में चुनाव की तारीख को देखते हुए यह सप्ताह मतदाताओं की आवाज बुलंद बनाए रखने के लिहाज से महत्वपूर्ण है।

एक ‘क्लीन एयर मैनिफेस्टो’ के साथ शुरू हुआ यह अभियान अब एक नागरिक आधारित आंदोलन का रूप ले चुका है, जो चुनाव प्रत्याशियों से शहर में स्वच्छ हवा बहाल रखने की मांग करता है। दिल्ली के नागरिकों और सिटीजन ग्रुप्स ने 30 विभिन्न स्थानों का दौरा कर लोगों को वायु प्रदूषण संबंधी अपने अनुभव, कहानियां और शिकायतें साझा करने और ‘प्रतीकात्मक’ रूप से दिल्ली में स्वच्छ हवा के लिए ‘वोट’ करने की अपील की। इस अभियान के तहत इस्तेमाल में लाए गए बैलेट बॉक्स को एक कला केंद्र में सजा कर रखा गया है, जो इस आंदोलन को मिले व्यापक जनसमर्थन को दर्शाता है। सिटीजन ग्रुप्स द्वारा कम प्रदूषित दिल्ली के लिए तैयार किए गए ‘क्लीन एयर मैनिफेस्टो’ को 9 समाधानों के साथ लोगों के बीच साझा किया गया। जनसंपर्क गतिविधियों और सामुदायिक जुड़ाव के साथ 30 विधानसभा क्षेत्रों से स्वच्छ वायु के समर्थन में करीब 1.9 लाख ‘वोट’ जुटाए गए। ये वोट शहर के सभी तबकों के लोगों -खासकर सफाई कर्मचारी, रिक्शॉ चालक, युवा माताओं, रेसिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के सदस्यों से आए, जो जहरीले और प्रदूषित हवा से परेशान हैं और सरकारी समाधानों की कमी से ऊब चुके हैं। दिल्ली के नागरिकों ने आगे बढ़ कर समाधान सुझाया है और इसके लिए प्रतीकात्मक वोट दिया है और जनप्रतिनिधियों के लिए समय आ गया है कि वे गंभीरता से इस पर अमल करें।

दिल्ली के 25 विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों के 48 विभिन्न राजनेताओं ने, जो इस चुनाव में आम आदमी पार्टी, भारतीय जनता पार्टी और इंडियन नेशनल कॉंग्रेस आदि प्रमुख पार्टियों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, स्वच्छ वायु के लिए काम करने का वचन दिया है। दिल्ली के नागरिकों ने अपने नेताओं के साथ समुदाय आधारित 48 विधानसभा क्षेत्रों की टाउन हॉल मीटिंग में इस पर खुल कर चर्चा की। इन बैठकों में सभी प्रमुख राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने भागीदारी की और वायु गुणवत्ता के समाधानों के लिए अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की। प्रतिबद्धता प्रदर्शित करने और ‘प्लेज साईन’ करने संबंधी जनसंपर्क गतिविधियों के दौरान 25 विधानसभा क्षेत्रों के 48 प्रत्याशियों ने इस अभियान का पुरजोर समर्थन किया। हस्ताक्षर करनेवाले प्रमुख राजनेताओं में कांग्रेस से कृष्णा तीरथ, संदीप तंवर, शिवानी चोपड़ा, भारतीय जनता पार्टी से विक्रम विधूरी, अनिल शर्मा, आम आदमी पार्टी से राघव चड्ढा, सौरभ भारद्वाज और प्रवीण कुमार सहित कई बड़े नेता और प्रमुख प्रत्याशी थे।

विकासपुरी से भाजपा के प्रत्याशी ने बताया कि

‘‘भाजपा के लिए वायु प्रदूषण नियंत्रण एक प्रमुख प्राथमिकता है। हमने शहर में ‘स्मॉग टावर’ की पहले ही शुरूआत कर दी है। लोगों को ‘साफ हवा, साफ पानी, साफ सड़क और साफ नाली’ हमारा वायदा है।’’

मंगोलपुरी से कॉंग्रेस पार्टी के प्रत्याशी राजेश लिलोटिया ने अधिकाधिक लोगों से इस अभियान को अपनाने की अपील करते हुए कहा कि ‘‘आप नागरिकों ने ‘दिल्ली धड़कने दो’ का जो अभियान चलाया है, वह बेहद प्रशंसनीय सरोकार है और बेहद जरूरी भी। स्वच्छ हवा के लिए मुझे आप सबको पूरा समर्थन है और मैं कॉंग्रेस के नेताओं और साथियों से अपील करता हूं कि वे अपने विधानसभा क्षेत्रों में इस पहल का पूरा समर्थन करें।’’

जनवरी में क्लीन एयर मैनिफेस्टो के जारी करने के दौरान आप के घनेंद्र भारद्वाज ने कहा था कि

‘‘हम किसान को दोषी नहीं ठहराते, बल्कि हम सरकार को उसकी निष्क्रियता के लिए जिम्मेवार मानते हैं। हमने अपने क्षेत्र में प्रदूषण को कम करने की पूरी कोशिश की है और करीब 25 प्रतिशत तक इसे कम कर चुके हैं। अगर हम इस साल चुने गए तो वायु प्रदूषण में और कमी लाएंगे और दिल्ली के लोगों से किया वायदा पूरा कर दिखाएंगे।’’

वायु प्रदूषण नियंत्रण के लिए लगातार पड़ रहे जनदबाव और मीडिया रिपोर्टिंग के कारण सभी तीनों प्रमुख राजनीतिक पार्टियों ने अपने चुनावी घोषणापत्र के मुख्य बिंदुओं में वायु प्रदूषण को जगह दी है। जैसे काँग्रेस ने अपने सालाना बजट का 25 प्रतिशत दिल्ली की वायु पर काम करने और 15 हजार इलेक्ट्रिक बसें चलाने लिए वायदा किया है। इस पार्टी ने सरकारी और प्राइवेट ऑफिसों से ‘जीरो वेस्ट’ करने और पराली से ऊर्जा बनाने की तकनीक के लिए फंड बनाने पर भी प्रतिबद्धता दर्शायी है। भाजपा ने ‘एयर प्यूरीफायर्स’ के अपने नेटवर्क बढ़ाने और पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बेहतर बनाने पर ध्यान केंद्रित किया है। यह पार्टी इलेक्ट्रिक वाहन और सोलर एनर्जी को कोयला आधारित तापीय विद्युत ऊर्जा के विकल्प के रूप में प्रोत्साहित करेगी। आम आदमी पार्टी ने शहर में एक करोड़ पौधे लगाने, यमुना का प्रदूषण हल करने और शहर में कार्बन उत्सर्जन समग्र तौर पर कम करने का वायदा अपने चुनावी घोषणापत्र में किया है।

पहली बार दिल्ली के चुनाव में इन तीन प्रमुख पार्टियों के मैनिफेस्टो में वायु प्रदूषण नियंत्रण संबंधी प्रतिबद्धता दिखाने और शहर में एयर पॉल्यूशन को रोकने के लिए केंद्रीय बजट में 4,400 करोड़ रुपए के आवंटन से प्रतीत होता है कि आखिरकार दिल्ली और देश वायु प्रदूषण के संकट से निबटने के लिए तैयार हो गए हैं।

About hastakshep

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *