दिल्ली : नए क्षेत्रों में स्थिति फिर बिगड़ने की अफवाह, बंद किए गए मेट्रो स्टेशन फिर खुले

Delhi: Situation worsens in new areas, Metro closes these six stations

नई दिल्ली, 01 मार्च 2020. ये देश का दुर्भाग्य है कि देश का गृह मंत्री जिसकी जिम्मेदारी आंतरिक सुरक्षा की है और जो दिल्ली पुलिस का मालिक भी है, वह जिस समय भाषण दे रहा है कि भारत अब घर में घुसकर मार सकता है, ठीक उसी समय देश की राजधानी दिल्ली में हालात फिर बिगड़ रहे हैं। ट्विटर पर लोग लगातार दिल्ली पुलिस को टैग करते हुए शांति की अपील कर रहे हैं।

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने ट्विटर पर लिखा,

“दंगा और गोलीबारी को लेकर मंगोलपुरी, सुल्तानपुरी, राजौरी गार्डन, उत्तम नगर और विजय विहार से 181 हेल्पलाइन पर अचानक शिकायतें मिल रही हैं। कई डीसीडब्ल्यू कर्मचारी इसमें फंस गए हैं।

ये क्या बकवास हो रहा है? @DelhiPolice   कृपया स्थिति पर नियंत्रण रखें!”

दिल्ली मेट्रो ने भी सुरक्षा के लिहाज से कई मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए हैं।

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (Delhi Metro Rail Corporation) ने ट्वीट कर जानकारी दी है,

“सुरक्षा अद्यतन

नांगलोई, सूरजमल स्टेडियम, बदरपुर, तुगलकाबाद, उत्तम नगर पश्चिम और नवादा में प्रवेश और निकास बंद है।“

अपडेट – नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक दिल्ली पुलिस ने कहा है कि कुछ अराजक तत्व अफवाह फैला रहे हैं, ताकि शांति व्यवस्था में बाधा आए।

खबर के मुताबिक डीएमआरसी ने आनन-फानन में सात मेट्रो स्टेशन बंद किए जाने की घोषणा की, 15 मिनट बाद ही खुले। दिल्ली के कुछ इलाकों में हिंसा की अफवाह के बाद अफरा-तफरी, 7 मेट्रो स्टेशन कुछ देर रहे बंद। दिल्ली पुलिस ने हिंसा के दावों को अफवाह बताते हुए लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations