Home » Latest » दिल्ली : नए क्षेत्रों में स्थिति फिर बिगड़ने की अफवाह, बंद किए गए मेट्रो स्टेशन फिर खुले
Breaking news

दिल्ली : नए क्षेत्रों में स्थिति फिर बिगड़ने की अफवाह, बंद किए गए मेट्रो स्टेशन फिर खुले

Delhi: Situation worsens in new areas, Metro closes these six stations

नई दिल्ली, 01 मार्च 2020. ये देश का दुर्भाग्य है कि देश का गृह मंत्री जिसकी जिम्मेदारी आंतरिक सुरक्षा की है और जो दिल्ली पुलिस का मालिक भी है, वह जिस समय भाषण दे रहा है कि भारत अब घर में घुसकर मार सकता है, ठीक उसी समय देश की राजधानी दिल्ली में हालात फिर बिगड़ रहे हैं। ट्विटर पर लोग लगातार दिल्ली पुलिस को टैग करते हुए शांति की अपील कर रहे हैं।

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने ट्विटर पर लिखा,

“दंगा और गोलीबारी को लेकर मंगोलपुरी, सुल्तानपुरी, राजौरी गार्डन, उत्तम नगर और विजय विहार से 181 हेल्पलाइन पर अचानक शिकायतें मिल रही हैं। कई डीसीडब्ल्यू कर्मचारी इसमें फंस गए हैं।

ये क्या बकवास हो रहा है? @DelhiPolice   कृपया स्थिति पर नियंत्रण रखें!”

दिल्ली मेट्रो ने भी सुरक्षा के लिहाज से कई मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए हैं।

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (Delhi Metro Rail Corporation) ने ट्वीट कर जानकारी दी है,

“सुरक्षा अद्यतन

नांगलोई, सूरजमल स्टेडियम, बदरपुर, तुगलकाबाद, उत्तम नगर पश्चिम और नवादा में प्रवेश और निकास बंद है।“

अपडेट – नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक दिल्ली पुलिस ने कहा है कि कुछ अराजक तत्व अफवाह फैला रहे हैं, ताकि शांति व्यवस्था में बाधा आए।

खबर के मुताबिक डीएमआरसी ने आनन-फानन में सात मेट्रो स्टेशन बंद किए जाने की घोषणा की, 15 मिनट बाद ही खुले। दिल्ली के कुछ इलाकों में हिंसा की अफवाह के बाद अफरा-तफरी, 7 मेट्रो स्टेशन कुछ देर रहे बंद। दिल्ली पुलिस ने हिंसा के दावों को अफवाह बताते हुए लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है।

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …