दिल्ली हिंसा : थाने में पुलिस ने की वकीलों की पिटाई, महिला अधिवक्ता को भी नहीं बख्शा !

Breaking news

Delhi Violence: Police beat up lawyers in police station, women lawyer is not spared either!

नई दिल्ली, 26 फरवरी 2020. दिल्ली में बिगड़ते माहौल के बीच एक और भयावह खबर आई है। अधिवक्ताओं के एक समूह ने आरोप लगाया है कि उन्हें जगतपुरी पुलिस स्टेशन में पुलिस द्वारा पीटा गया।

एडवोकेट अवनि बंसल, अनस तनवीर, तमन्ना पंकज, आकिफ आब्दी व प्रशांत दुबे की ओर से प्राप्त एक संदेश में कहा गया है कि

“जगतपुरी पुलिस स्टेशन में हम वकीलों में से एक समूह को पुलिस ने पीटा। हम अनुरोध कर रहे थे कि हमें उन बंदियों से मिलने दिया जाए, जिन्हें पुलिस ने खुरेजी प्रोटेस्ट साइट से गिरफ्तार किया है। उन्होंने हमें बंदियों से मिलने नहीं दिया। जैसे ही हमने वीडियो को रिकॉर्ड करना शुरू किया और फिर हमें लाठियों से पीटा, फोन छीन लिया। एक पुलिस अधिकारी ने महिला वकीलों को धक्का देना शुरू कर दिया, इस पर हमाने विरोध किया, तो और अधिक पुलिस हमें पुलिस स्टेशन के बाहर धकेलने में शामिल हो गई।”

इससे पहले एडवोकेट तमन्ना पंकज ने फेसबुक पर लिखा था,

“हम पुलिस स्टेशन जगतपुरी में हैं, पुलिस अधिकारियों (एचसी मनोज भाटिया) ने बंदियों के साथ वकीलों की बैठक से आधिकारिक तौर पर यह कहते हुए इनकार कर दिया कि थाने में कोई अधिकारी नहीं हैं। 15 से अधिक लोगों को हिरासत में लिए जाने की सूचना है।”

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें