Home » Latest » दिल्ली हिंसा : रूबिका ने कहा इंटरनेट बंद कर दिया जाए, आचार्य बोले नफ़रत का “वायरस” तो दिलों में घुस चुका है
Acharya Pramod Krishnam.jpg

दिल्ली हिंसा : रूबिका ने कहा इंटरनेट बंद कर दिया जाए, आचार्य बोले नफ़रत का “वायरस” तो दिलों में घुस चुका है

Delhi violence: Rubika Liyaquat said that internet should be shut down, Acharya said that the “virus” of hate has penetrated into the hearts

नई दिल्ली, 26 फरवरी 2020. दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा के बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हिंसक वीडियोज को लेकर जब चर्चित एंकर रूबिका लियाकत ने सुझाव दिया कि इंटरनेट सेवा बंद कर दी जाए तो हिन्दू धर्मगुरू आचार्य प्रमोद कृष्णम् ने कहा कि इससे क्या होगा नफ़रत का “वायरस” तो दिलों में घुस चुका है।

रूबिका लियाकत ने ट्वीट किया,

“दिल्ली हिंसा को लेकर जिस तरह दोनों तरफ़ से वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा की जा रही है वो बेशक आग में घी डालने का काम कर रही है। बेहतर होगा की इंटरनेट सेवा ही बंद कर दी जाए। ये ऐसे नहीं रुकेंगे।“

इस पर हिन्दू धर्मगुरू आचार्य प्रमोद कृष्णम् ने कहा

“नफ़रत का “वायरस” दिलों में घुस चुका है रूबिका,अब “इंटरनेट”

बंद करने से क्या होगा.”

वरिष्ठ पत्रकार अमलेन्दु उपाध्याय ने कहा

“टीवी चैनलों का कम योगदान नहीं इस नफ़रत के वायरस को फैलाने में”

प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 18 हो गई है। हिंसा को सर्वोच्च न्यायालय (Supreme court) ने ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताया है।

शीर्ष अदालत ने कहा, “जो कुछ भी हो रहा है वह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है, जिसे नहीं होना चाहिए था।”

 

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Akhilendra Pratap Singh

भारत-चीन टकराव : मौजूदा सत्ता प्रतिष्ठान की इसके हल में कोई दिलचस्पी नहीं है

India-China Conflict: The current power establishment is not interested in its solution 7 जुलाई 2020 …