दिल्ली हिंसा : रूबिका ने कहा इंटरनेट बंद कर दिया जाए, आचार्य बोले नफ़रत का “वायरस” तो दिलों में घुस चुका है

Acharya Pramod Krishnam.jpg

Delhi violence: Rubika Liyaquat said that internet should be shut down, Acharya said that the “virus” of hate has penetrated into the hearts

नई दिल्ली, 26 फरवरी 2020. दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा के बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हिंसक वीडियोज को लेकर जब चर्चित एंकर रूबिका लियाकत ने सुझाव दिया कि इंटरनेट सेवा बंद कर दी जाए तो हिन्दू धर्मगुरू आचार्य प्रमोद कृष्णम् ने कहा कि इससे क्या होगा नफ़रत का “वायरस” तो दिलों में घुस चुका है।

रूबिका लियाकत ने ट्वीट किया,

“दिल्ली हिंसा को लेकर जिस तरह दोनों तरफ़ से वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा की जा रही है वो बेशक आग में घी डालने का काम कर रही है। बेहतर होगा की इंटरनेट सेवा ही बंद कर दी जाए। ये ऐसे नहीं रुकेंगे।“

इस पर हिन्दू धर्मगुरू आचार्य प्रमोद कृष्णम् ने कहा

“नफ़रत का “वायरस” दिलों में घुस चुका है रूबिका,अब “इंटरनेट”

बंद करने से क्या होगा.”

वरिष्ठ पत्रकार अमलेन्दु उपाध्याय ने कहा

“टीवी चैनलों का कम योगदान नहीं इस नफ़रत के वायरस को फैलाने में”

प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 18 हो गई है। हिंसा को सर्वोच्च न्यायालय (Supreme court) ने ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताया है।

शीर्ष अदालत ने कहा, “जो कुछ भी हो रहा है वह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है, जिसे नहीं होना चाहिए था।”

 

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें