Home » Latest » दिल्ली हिंसा : सोनिया ने अमित शाह के इस्तीफे की मांग की, केजरीवाल को भी ठहराया जिम्मेदार
Sonia Gandhi at Bharat Bachao Rally

दिल्ली हिंसा : सोनिया ने अमित शाह के इस्तीफे की मांग की, केजरीवाल को भी ठहराया जिम्मेदार

Delhi violence: Sonia demands Amit Shah’s resignation, holds Kejriwal responsible

नई दिल्ली, 26 फरवरी 2020. कांग्रेस कार्यकारिणी समिति (सीडब्ल्यूसी) की बुधवार को दो घंटे से अधिक समय तक चली बैठक में विचार-विमर्श के बाद, पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मांग करते हुए कहा है कि दिल्ली के उत्तर पूर्वी इलाके में हुई हिंसा को नियंत्रित करने में विफल रहने के कारण केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को इस्तीफा दे देना चाहिए।

सोनिया ने सीडब्लयूसी के बयान को पढ़कर सुनाया जिसमें कहा गया,

“स्थिति की समीक्षा करने के बाद, सीडब्ल्यूसी का ढृढ़ मत है कि दिल्ली में जो कुछ हुआ है, वह कर्तव्य की एक बड़ी विफलता है, जिसके लिए पूरी जिम्मेदारी केंद्र सरकार, विशेष रूप से गृह मंत्री को वहन करनी चाहिए और गृह मंत्री को इस्तीफा देने के लिए कहना चाहिए।”

कांग्रेस ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री भी स्थिति के लिए जिम्मेदार हैं।

बयान में कहा गया,

“शांति और सौहार्द बनाए रखने के मद्देनरज लोगों तक पहुंचने के लिए प्रशासन को सक्रिय नहीं करने के लिए मुख्यमंत्री और दिल्ली सरकार समान रूप से जिम्मेदार हैं।”

सोनिया गांधी द्वारा पढ़े गए सीडब्ल्यूसी के बयान में कहा गया है कि यह दो सरकारों की सामूहिक विफलता है, जिसके परिणामस्वरूप राष्ट्रीय राजधानी में इतनी बड़ी हिंसा हुई, जिससे स्थिति दिन पर दिन बिगड़ती जा रही है।

सोनिया गांधी ने कहा कि 2014 के बाद से कोई भी सर्वदलीय बैठक नहीं बुलाई गई है, जो हैरान करने वाली है।

सीडब्ल्यूसी ने कहा कि सीडब्ल्यूसी उन लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट करता है, जिन्होंने अपनी जान गंवाई है और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता है।

CWC ने सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं से प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने और हिंसा से पीड़ित लोगों के परिवारों को हर संभव सहायता देने और समुदायों के बीच सौहार्द बनाने का आह्वान किया है

: कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी


Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

disha ravi

जानिए सेडिशन धारा 124A के बारे में सब कुछ, जिसका सबसे अधिक दुरुपयोग अंग्रेजों ने किया और अब भाजपा सरकार कर रही

सेडिशन धारा 124A, राजद्रोह कानून और उसकी प्रासंगिकता | Sedition section 124A, sedition law and …