एनएचआरसी पहुंचा जामिया में पुलिस हिंसा मामला

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में दिल्ली पुलिस के खिलाफ मामला दर्ज

A case has been registered in the National Human Rights Commission (NHRC) against the alleged violence of Delhi Police at Jamia Millia Islamia University.

नई दिल्ली, 16 दिसम्बर 2019 । जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में दिल्ली पुलिस की कथित हिंसा के खिलाफ राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) में मामला दर्ज किया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शिकायतकर्ता सौरभ दास ने आरोप लगाया कि

“15 दिसंबर की रात पुलिस उपायुक्त (दक्षिण-पूर्व) की अगुआई में दिल्ली पुलिस ने विश्वविद्यालय के छात्रों पर बर्बरतापूर्वक हमला कर दिया।”

शिकायत में पुलिस पर इमारत में तोड़फोड़ करने, वकीलों को छात्रों से मिलने से रोकने और नाबालिगों को हिरासत में लेने का भी आरोप लगाया गया है।

शिकायतकर्ता ने एक बयान में कहा कि दिल्ली पुलिसकर्मियों ने छात्राओं के हिजाब को जबरदस्ती हटवाकर उनका उत्पीड़न किया।

शिकायतकर्ता ने इसके बाद ‘यूनिवर्सिटी परिसर में पुलिसकर्मियों के जबरन घुसने’ के मुद्दे पर जोर दिया।

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया,

“माननीय आयोग से इस मामले की गंभीरता और प्रदर्शनकारियों के जीवन तथा स्वतंत्रता के अधिकार को देखते हुए इसे जल्द से जल्द देखने का आग्रह है।”

Demonstration in protest against Citizenship Amendment Act (CAA)

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध में चल रहा प्रदर्शन रविवार को उस समय हिंसक हो गया, जब कथित तौर बसों में आग लगा दी गई और सार्वजनिक संपत्तियों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया। इसके बाद पुलिस-छात्रों के बीच हिंसा बढ़ती चली गई।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations