Home » समाचार » देश » Corona virus In India » तैयारी के लिए एक वर्ष मिलने के बावजूद, सरकार लापरवाह रही : सोनिया
Sonia Gandhi at Bharat Bachao Rally

तैयारी के लिए एक वर्ष मिलने के बावजूद, सरकार लापरवाह रही : सोनिया

Despite getting a year to prepare, the government remained negligent: Sonia

नई दिल्ली, 17 अप्रैल 2021. अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Interim Congress President Sonia Gandhi) ने शनिवार को कहा कि कोविड-19 महामारी एक राष्ट्रीय चुनौती है (COVID-19 pandemic is a national challenge), जिसे दलगत राजनीति से ऊपर रखा जाना चाहिए। लेकिन एक साल के बाद भी सरकार लापरवाह बनी रही।

सोनिया गांधी कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक के दौरान बोल रही थीं, जिसे महामारी के मुद्दे पर चर्चा के लिए वर्चुअली बुलाया गया था।

सोनिया गांधी ने अपनी प्रारंभिक टिप्पणी में कहा,

“भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने हमेशा माना है कि कोविड -19 महामारी से लड़ना एक राष्ट्रीय चुनौती है, जिसे पार्टी की राजनीति से ऊपर रखा जाना चाहिए। हमने फरवरी-मार्च, 2020 से अपने सहयोग का हाथ बढ़ाया है।”

हालांकि, हम इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकते कि कोविड -19 महामारी की दूसरी लहर ने देश में रोष पैदा किया है। तैयार होने के लिए एक साल होने के समय के बावजूद, अफसोस की बात है कि लापरवाही की गई।

उन्होंने कहा कि देश के कई परिवार मुश्किल में हैं, जीवन और आजीविका समाप्त हो रही है और जीवन भर की कमाई स्वास्थ्य सेवाओं में खर्च हो रही है।

सोनिया गांधी ने उन हजारों परिवारों के प्रति दुख जताया, जिन्होंने पिछले एक साल में इस महामारी से अपने प्रियजनों को खो दिया है।

सोनिया ने कहा,

“उनका दर्द और पीड़ा हमारा दर्द और पीड़ा है। स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और चिकित्सा बिरादरी के लिए आभार, जो गंभीर दबावों और जोखिमों के बावजूद अभूतपूर्व सेवा प्रदान कर रहे हैं। उनके कर्तव्य और समर्पण की भावना को सलाम।”

उन्होंने टीका निर्यात के लिए सरकार पर निशाना साधा।

सोनिया गांधी ने कहा,

“भारत ने पहले ही लगभग 6.5 करोड़ कोविड -19 वैक्सीन की खुराक अन्य देशों को निर्यात की है। हमारे देश में दुनिया में सबसे अधिक संक्रमण दर को ध्यान में रखते हुए, टीका निर्यात को वापस लिया जाना चाहिए और हमारे नागरिकों की रक्षा के लिए प्राथमिकता दी जानी चाहिए?”

उन्होंने कहा कि सरकार को 25 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों को टीका लगावाने की अपनी प्राथमिकता पर भी पुनर्विचार करना चाहिए। साथ ही साथ अस्थमा, एंजीना, मधुमेह, किडनी और यकृत की बीमारियों जैसे जोखिम वाले सभी युवा व्यक्तियों को भी टीका लगाना चाहिए।

उन्होंने कोविड में इस्तेमाल होने वाली दवाओं पर जीएसटी की छूट की मांग दोहराई।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …

Leave a Reply