दिग्विजय सिंह का आरोप, जेएनयू की घटना अमित शाह के निर्देशन में !

Digvijaya Singh on JNU Violence

ग्वालियर/ नई दिल्ली, 6 जनवरी 2020. दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में छात्रोंपर हुए प्राणघातक हमले (#JNUattack) को लेकर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Former Chief Minister of Madhya Pradesh Digvijaya Singh) ने केंद्र सरकार और गृहमंत्री अमित शाह पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

उन्होंने कहा कि “जेएनयू में हिंसक घटना गृहमंत्री के निर्देशन में हुई है।”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पूर्व मुख्यमंत्री सिंह ने ग्वालियर में संवाददाताओं से कहा,

“जेएनयू इस देश का सर्वमान्य और सबसे बेहतरीन संस्थान है और वहां इस तरह के गुंडे सरकार की शह पर कैंपस के अंदर जाकर, लड़कियों के हॉस्टल में घुसकर मारपीट कर रहे हैं, यूनियन की अध्यक्ष का सिर फोड़ दिया।”

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा,

“पूरी वारदात, यह सब कुछ गृहमंत्री अमित शाह के निर्देशन में हुआ है, हम इसकी निंदा करते हैं।”

दिग्विजय ने इससे पहले, ट्वीट किया,

“जेएनयू के छात्राओं के हॉस्टल में रात को घुसकर एबीवीपी के गुंडों द्वारा जो मारपीट की गई है, उसकी मैं घोर निंदा करता हूं। दिल्ली पुलिस देखती रही। क्या भारत के गृहमंत्री पर जवाबदारी नहीं बनती? गृहमंत्री या तो इन गुंडों पर सख्त कार्रवाई करें या इस्तीफा दें।”

उन्होंने ट्वीट किया,

“जेएनयू में प्रधानमंत्री, केंद्र सरकार में मंत्रियों, राज्य सरकार में मंत्रियों, नोबेल पुरस्कार विजेता, सिविल सोसाइटी में सिविल सर्विसेज एक्टिविस्ट्स से लेकर संसद सदस्यों तक और अन्य क्षेत्रों के ऐसे पूर्व छात्र हैं, जिन क्षेत्रों में हमें गर्व है।“

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि

“और वर्तमान मोदी सरकार में वित्त मंत्री और विदेश मंत्री। क्या उन सभी को न केवल सोशल मीडिया पर निंदा करने के लिए खड़ा होना चाहिए, बल्कि गृह मंत्री को एबीवीपी के गुंडों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए मजबूर करना चाहिए? दिल्ली पुलिस क्या कर रही थी? क्या वे इसे रोक नहीं सकते थे?”

कांग्रेस नेता ने कहा,

“क्या यह एक संपूर्ण खुफिया विफलता नहीं है? आईबी या दिल्ली पुलिस की इंटेलिजेंस विंग क्या कर रही थी? मि. अमित शाह को दण्डित करना चाहिए अन्यथा हम आपको हमारे सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय के छात्रों, जिन्होंने हमें इस तरह के नेताओं का नेतृत्व किया है, के खिलाफ इस हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराएंगे।“

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:

View Comments (0)

Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations