Home » Latest » “हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव” में इस रविवार दिनेश प्रभात “झमाझम बारिश में”
Dinesh Prabhat

“हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव” में इस रविवार दिनेश प्रभात “झमाझम बारिश में”

नई दिल्ली, 25 जून 2020. हस्तक्षेप डॉट कॉम के यूट्यूब चैनल के साहित्यिक कलरव अनुभाग (“Saahityik Kalrav” section of hastakshep.com’s YouTube channel) में इस रविवार देश के जाने-माने गीतकार दिनेश प्रभात अपना काव्यपाठ करेंगे।

यह जानकारी देते हुए साहित्यिक कलरव  के संयोजक डॉ. अशोक विष्णुडॉ. कविता अरोरा ने बताया कि ”साहित्यिक कलरव के नन्हें पौधे ने जड़ पकड़ ली है। इसकी देख-रेख के लिये देश के महान साहित्यकार अपने सुमधुर गीतों के जल से लगातार सींच रहे है। जहाँ बुद्धिनाथ मिश्र जी ने लाड़ से रोपा वही साहित्यिक कलरव के संरक्षक सुभाष वसिष्ठ जी गंभीरता से देख भाल कर रहे हैं। सुरेन्द्र शर्मा जी ने इसे अपनी उर्जा दी और अब बादलों की झमाझम से इसे हरा भरा करने आ रहे हैं दिनेश प्रभात जी…”

डॉ. कविता अरोरा ने बताया कि झीलों की नगरी भोपाल के सुप्रसिद्ध गीतकार दिनेश प्रभात सम्मानित पत्रिका गीत गागर के संपादक हैं। देश के अग्रणी गीतकार मंच के सशक्त हस्ताक्षर कुशल संचालक एवं उद्घोषक दिनेश जी का मंच और साहित्य में अनूठा संतुलन है। आपका गीत ग़ज़ल पर समान अधिकार है। आपके विषय में स्व. गोपालदास नीरज जी ने कहा है – झमाझम बारिश में नामक कृति में रस की जो वर्षा हो रही है और अनोखे शिल्प विधान की ठंडी ठंडी जो पुरवाई बह रही है और धरती से जो सौधी सौंधी सुगन्ध जन्म ले रही है वह हर किसी मन प्राण को रससिक्त करेगी ऐसा मेरा विश्वास है…

दिनेश प्रभात के चर्चित काव्य संग्रह हैं – चंदा ! तेरे गांव, लहर ढूंढता हूं, झमाझम बारिश में, ये हवा से बोल देना, यादों में हरसूद, बिजलियाँ पाँव में, और आंखें नैनीताल हुईं।

तो इस रविवार दिनेश प्रभात को सुनना न भूलें – निम्न लिंक पर

 

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

world aids day

जब सामान्य ज़िंदगी जी सकते हैं एचआईवी पॉजिटिव लोग तो 2020 में 680,000 लोग एड्स से मृत क्यों?

World AIDS Day : How can a person living with HIV lead a normal life? …