अंतर्राष्ट्रीय विमानन के लिए कार्बन ऑफसेट और न्यूनीकरण योजना को कमज़ोर बनाने पर विमर्श

Environment and climate change

Discussion on weakening carbon offset and reduction plan for international aviation

नई दिल्ली, 02 जुलाई 2020. इन दिनों संयुक्त राष्ट्र विमानन एजेंसी ICAO (आईसीएओ) की 36 सदस्यीय परिषद की, एक वर्चुअल बैठक चल रही है जो किसी भी दिन इस बात पर निर्णय ले सकती है कि “कार्बन ओफ्फ्सेटिंग एंड रिडक्शन स्कीम फॉर इंटरनेशनल एविएशन (अंतर्राष्ट्रीय विमानन के लिए कार्बन ऑफसेट और न्यूनीकरण योजना)”- CORSIA (कोरसिया), के लिए आधार रेखा को कमजोर किया जाए। यह परिषद 36 में से 19 देशों के साधारण बहुमत से नियम बदल सकती है।

हालांकि इस साल कॉरोनोवायरस प्रकोप के परिणामस्वरूप वैश्विक हवाई यातायात में गिरावट से 2020 के उत्सर्जन में काफी कमी आएगी, जिसका मतलब है कि पहले की अपेक्षा से कम बेसलाइन स्थापित की गई, और इसलिए अगले साल से शुरू होने वाले CORSIA (कोरसिया) की 15 साल की अवधि में उच्च ऑफसेट आवश्यकताओं की संभावना थी।

ज्ञात हो कि CORSIA (कोरसिया) एयरलाइनों में CO2 को संबोधित करने के लिए केंद्रीय, प्रमुख नीति है, जिसे कार्बन ओफ्फ्सेटिंग एंड रिडक्शन स्कीम फॉर इंटरनेशनल एविएशन (अंतर्राष्ट्रीय विमानन के लिए कार्बन ऑफसेट और न्यूनीकरण योजना), जिसे 1997 के क्योटो प्रोटोकॉल के तहत अंतरराष्ट्रीय विमानन उत्सर्जन के लिए जिम्मेदारी सौंपे जाने के 23 वर्षों के बाद लाया है।

अमरीका से बेसलाइन बदलने के लिए समर्थन के बाद ICAO (आईसीएओ) काउंसिल में यूरोपीय देशों ने पहले ही कहा है कि वे ‘यदि आवश्यक हो तो’ बेसलाइन में बदलाव को स्वीकार कर सकते हैं।

यह जानकारी देते हुए वरिष्ठ पत्रकार व पर्यावरणविद् डॉ. सीमा जावेद ने बताया कि एक दीर्घकालिक निरपेक्ष उत्सर्जन कटौती लक्ष्य (Long term absolute emission reduction target) निर्धारित करने के मुद्दे पर ICAO (आईसीएओ) ने हर तीन साल में बार-बार, हर अगली ICAO (आईसीएओ) त्रिवार्षिक विधानसभा तक, निर्णय नहीं लिया है। लेकिन जब यह अपनी एकमात्र स्थापित CO2 योजना को कमजोर करने की बात आती है, तो ऐसा प्रतीत होता है कि ICAO (आईसीएओ) परिषद इस प्रक्रिया को तेज करने के लिए अपने स्वयं के नियमों को मोड़ने के लिए तैयार हो सकता है।

CORSIA (कोरसिया) क्या है?

संयुक्त राष्ट्र विमानन एजेंसी ICAO (आईसीएओ) की “कार्बन ऑफ़सेटिंग एंड रिडक्शन स्कीम फॉर इंटरनैशनल एविएशन” (ICAO’s Carbon Offsetting and Reduction Scheme (CORSIA) for International Aviation) को 2019-2020 में उत्सर्जन द्वारा निर्धारित बेसलाइन के ऊपर अपने CO2 उत्सर्जन को कवर करने के लिए कार्बन ऑफ़सेट खरीदने की भाग लेने वाली देशों की एयरलाइनों को आवश्यकता है। चूँकि इस उद्योग में प्रति वर्ष लगभग 3% की वृद्धि जारी रहने की उम्मीद रही है, इस वजह से धीरे-धीरे एयरलाइनों की ऑफ़सेटस खरीदने की मात्रा बढ़ जाएगी।

अप्रैल में, वैश्विक एयरलाइन लॉबी ग्रुप IATA (आईएटीए) ने 2019/2020 के औसत के बजाय अंतर्राष्ट्रीय उड्डयन उत्सर्जन के लिए कोरसिया ऑफसेट योजना के लिए उपयोग की जाने वाली आधारभूत गणना को केवल 2019 तक बदल देंने के लिए ICAO (आईसीएओ) परिषद को बुलावा दिया।

इससे क्या फर्क पड़ता है?

दायित्वों के पैमाने जिससे एयरलाइंस, CORSIA (कोरसिया) बेसलाइन को फिर से लिखने से, बच जाएंगे बहुत विशाल है – अगर IATA (आईएटीए) का प्रयास सफल हो जाता है, तो एयरलाइंस अपने स्वयं के अनुमान से मुफ्त में वायुमंडल में $15 बिलियन डॉलर का CO2 उत्सर्जन कर सकती हैं। यह सिर्फ CORSIA (कोरसिया)के तहत बेहद कम CO2 मूल्य अनुमान का उपयोग करते हुए है। कार्बन की एक रूढ़िवादी सामाजिक लागत का उपयोग करना कई गुना अधिक लागत देता है, जो कि उद्योग समाज पर मुफ्त में लागू करता है।

मई में, NGOs (एनजीओ) और नवजात कार्बन बाजार के डेवलपर्स ने ICAO (आईसीएओ) को एक पत्र लिखा, जिसमें उन्होंने बेसलाइन में परिवर्तन का विरोध किया, यह तर्क देते हुए कि यह आने वाले वर्षों के लिए दुनिया भर में कम-कार्बन परियोजनाओं में निवेश इससे कमज़ोर हो जायेगा, और कि “अधिकांश पुनर्प्राप्ति परिदृश्यों के तहत, IATA (आईएटीए) द्वारा मांगा गया परिवर्तन CORSIA (कोरसिया) पायलट चरण [2021-2023] की अवधि के लिए सभी ओफ्फ्सेटिंग आवश्यकताओं को समाप्त करेगा और इसके बाद संभवतः कई वर्षों तक रहेगा।”

विमानन क्षेत्र के लिए मौजूदा (कमजोर) पर्यावरण विनियमन (Current (weak) environmental regulation for the aviation sector) के खिलाफ यह पुशबैक एयरलाइंस की जनता के पैसे का उपयोग कर सरकारी बेलआउट में अरबों की मांग और प्राप्ति के बावजूद हो रहा है।

ICAO (आईसीएओ) काउंसिल के कई देश, सभी पर्यावरण नियम बनाने में लोकतांत्रिक पारदर्शिता के लिए आरहूस कन्वेंशन के तहत, अपनी प्रतिबद्धताओं का उल्लंघन करते दिख रहे हैं।

अमेरिका में पर्यावरण रक्षा कोष की एक वकील एनी पेट्सोंक का मानना है कि ICAO (आईसीएओ) परिषद के लिए अब CORSIA (कोरसिया) की आधार रेखा को फिर से लिखना अवैध हो सकता है, क्योंकि यह अंतर्राष्ट्रीय विनियमन का एक टुकड़ा है, जिसमें परिवर्तन को मंजूरी देने के लिए ICAO (आईसीएओ) विधानसभा में देशों के बहुत बड़े समूह की आवश्यकता होती है।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें