प्रदेश में मलेरियारोधी दवा के मुफ्त वितरण पर न लगे रोक, अमरीका को न भेजी जाए हाइड्रोक्लोरोक्विन – स्वराज अभियान

Do not ban the free delivery of anti-malarial drugs in the state, hydroxychloroquine should not be sent to America – Swaraj Abhiyan

स्वराज अभियान ने भेजा मुख्यमंत्री को पत्र | Swaraj Abhiyan sent letter to Chief Minister

लखनऊ, 07 अप्रैल, 2020 : प्रदेश में सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों में मलेरियारोधी दवा हाइड्रोक्लोरोक्विन (Anti-malarial drug hydroxychloroquine in government health centers) के मलेरिया से पीड़ित व्यक्ति को मुफ्त वितरण पर रोक नहीं लगाने और भारत सरकार से मलेरियारोधी इस दवा को अमेरिका को किसी भी हालत में निर्यात न करने का आग्रह करने की मांग आज मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर स्वराज अभियान ने की है।

स्वराज अभियान नेता और वर्कर्स फ्रंट के अध्यक्ष दिनकर कपूर ने पत्र में मुख्यमंत्री का ध्यान भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के अखबारों में छपे बयान कि मलेरियारोधी दवा हाइड्रोक्लोरोक्विन के उपयोग की अनुमति संक्रमितों के संपर्क में आए व उनका इलाज कर रहे स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए ही है जिसका शीर्षक ‘मलेरियारोधी दवा केवल स्वास्थ्यकर्मियों के लिए‘ की तरफ आकृष्ट कराया है।

सीएम के संज्ञान में आदिवासी-दलित बाहुल्य सोनभद्र, मिर्जापुर और चंदौली की नौगढ़ तहसील की हालत को लाते हुए बताया गया कि यहां लोगों को बड़े पैमाने पर मलेरिया होता है। विशेषकर सोनभद्र जनपद की दुद्धी तहसील में तो ग्रामीण व नागरिक सर्वाधिक मलेरिया से पीड़ित होते हैं और मलेरिया के कारण उनकी मौतें भी होती हैं। इस क्षेत्र में राजनीतिक सामाजिक कार्य करने के कारण मैं खुद लम्बे समय तक मलेरिया से पीड़ित रहा हूं। यहां के हर सरकारी अस्पताल व स्वास्थ्य केन्द्रों पर मलेरिया पीड़ित व्यक्ति को सरकार की तरफ से मलेरियारोधी दवा हाइड्रोक्लोरोक्विन मुफ्त में मिलती है, जिससे लोगों के जीवन की रक्षा होती है।

COVID-19 : Indian government going to export anti-malarial drug hydroxychloroquine to US

पत्र में कहा गया है कि केन्द्र सरकार के उपरोक्त आदेश के बाद ग्रामीणों को मिल रही मलेरियारोधी दवा हाइड्रोक्लोरोक्विन मिलनी बंद हो जायेगी जिससे इन क्षेत्रों के लोग बेमौत मरने पर मजबूर होंगे। ऐसी भी सूचना है कि भारत सरकार मलेरियारोधी दवा हाइड्रोक्लोरोक्विन को अमेरिका को निर्यात करने जा रही है जो इसे कोविड-19 के इलाज में इस्तेमाल करेगा। यह स्थिति बेहद चिंताजनक है। अतः निवेदन किया गया है कि प्रदेश में इस दवा के मुफ्त वितरण को न रोका जाए और भारत सरकार से इस दवा के निर्यात को नहीं करने का आग्रह किया जाए।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations