Home » Latest » अनदेखा न करें कान के दर्द को
Health News in Hindi

अनदेखा न करें कान के दर्द को

Do not ignore earache

क्यों होता है कान में दर्द (Why does ear pain occur), जानिए कान में दर्द का घरेलू उपाय क्या है, जानिए कान में दर्द होने पर क्या करें (What to do if you have ear pain), कान में हो रहे दर्द के कई कारण हो सकते हैं। जैसे कान में मैल का इकट्ठा होना, कान के भीतर पानी चला जाना, कान की सफाई गलत ढंग से करना, कान के पर्दे खराब हो जाना आदि।

कान में दर्द के क्या कारण हैं

कान में हो रहे दर्द के कई कारण हो सकते हैं। जैसे कान में मैल का इकट्ठा होना, कान के भीतर पानी चला जाना, कान की सफाई गलत ढंग से करना, कान के पर्दे खराब हो जाना आदि।

कान को साफ करने के लिए कॉटन स्कैब का प्रयोग (Use of cotton swab to clean the ears) गलत ढंग से करना भी कान में दर्द पैदा कर सकता है।

कान को साफ करते समय कभी भी कोई नुकीली चीज का प्रयोग नहीं करना चाहिए। कान के दर्द को अनदेखा नहीं करना चाहिए। किसी अच्छे डाक्टर की मदद लेनी चाहिए।

कान के दर्द के लिए आप कुछ घरेलू उपायों की मदद भी ले सकते हैं।

कान में हो रही दर्द के लिए अदरक का रस निकालकर कानों में डालने से दर्द से राहत पाई जा सकती है।

नमक को अच्छी तरह गर्म करके उसे किसी कपड़े में बांध कर कान के जिस जगह पर दर्द हो रही हो उस जगह पर रखने से कान दर्द से निजात मिलती है।

जैतून का तेल कान दर्द से राहत दिलवाने में मददगार साबित हुआ है।

अगर कान में मैल इक्ट्ठा हो जाए तो कॉटन स्कैब को कान के ज्यादा भीतर और इससे जोर से कान की सफाई नहीं करनी चाहिए।

अपने भोजन में विटामिन सी से भरपूर चीजों का सेवन अधिक करने से कान दर्द से राहत पाई जा सकती है।

प्याज का रस निकालकर रूई की मदद से कान में कुछ बूंदे डालने से कान दर्द से राहत पाई जा सकती है।

तुलसी की ताजी पत्तियों का रस निकालकर कान में कुछ बूंदे डालने से कान दर्द से राहत पाई जा सकती है।

सरसों के तेल को हल्का सा गर्म करकें कान में डालने से कान में हो रही दर्द से राहत मिलती है।

कान में दर्द होने पर उसे जोर जोर से हिलाना नहीं चाहिए और न ही किसी भी चीज से साफ करना चाहिए।

कान की सफाई हमेशा अच्छे डाक्टर से करवानी चाहिए।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।) 

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

health news

78 शहरों के स्थानीय नेतृत्व ने एकीकृत और समन्वित स्वास्थ्य नीति को दिया समर्थन

Local leadership of 78 cities supported integrated and coordinated health policy End Tobacco is an …

Leave a Reply