मोतिहारी के अस्पताल में मास्क न होने से डॉक्टर हड़ताल पर, देश सुरक्षित हाथों में है !

Doctors on strike due to no mask in Motihari’s hospital. The country is in safe hands!

पटना, 14 मार्च 2020. कोरोना वायरस (Corona virus) देशभर में पैर पसार रहा है। अस्पतालों के मेडिकल और अन्य स्टॉफ की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं। सभी अस्पतालों को वायरस से लड़ने के लिए तैयार रहने को कहा गया है। मगर इस बीच बिहार के मोतिहारी सदर अस्पताल (Motihari Sadar Hospital) के डॉक्टर शनिवार को अचानक हड़ताल पर चले गए।

Masks are not available in the hospital

डॉक्टरों का कहना है कि अस्पताल में मास्क उपलब्ध नहीं हैं और उनकी सुरक्षा के लिए कोई प्रबंध नहीं है।

डॉक्टरों के अचानक हड़ताल पर जाने के कारण मरीजों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मोतिहारी सदर अस्पताल में डॉक्टर खुद कोरोनावायरस से भयभीत हैं। अस्पताल में मॉस्क नहीं हैं। इस भय के कारण ही अपनी सुरक्षा की चिंता करते हुए मोतिहारी सदर अस्पताल के डॉक्टर अचानक हड़ताल पर चले गए हैं।

गौरतलब है कि कोरोनावायरस के देश में तेजी से फैलने के कारण विभिन्न राज्यों ने अपने शिक्षण संस्थानों को बंद कर दिया है और अस्पतालों को इंतजाम पुख्ता रखने के साथ ही सतर्क रहने को कहा गया है। मगर इस तरह डॉक्टरों के हड़ताल पर चले जाने के कारण बिहार में स्थिति उल्टी ही पड़ती दिखाई दे रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मोतिहारी सदर अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि अस्पताल में इलाज कर रहे डॉक्टरों और कर्मियों की सुरक्षा के लिए कोई प्रबंध नहीं हैं। उनका कहना है कि सुरक्षा के नाम पर अस्पताल में एक मास्क तक उपलब्ध नहीं कराया जा सका है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मोतिहारी के सिविल सर्जन ने कहा है कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से तीन हजार मास्क उपलब्ध हुए हैं, जिन्हें डॉक्टरों को उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जा रही है।

गौरतलब है कि नाइजीरिया से लौटे एक युवक के बीमार होने पर बीते 12 मार्च को मोतिहारी सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने कोरोनावायरस से ग्रसित होने की आशंका जाहिर करते हुए उसे मुजफ्फरपुर रेफर कर दिया था। इसके बाद से ही मोतिहारी सदर अस्पताल के डॉक्टरों में मरीजों के इलाज को लेकर दहशत बनी हुई है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations