Home » Latest » अम्बेडकर जयंती पर डॉ. आनंद तेलतुंबडे की गिरफ्तारी : एक राष्ट्रीय शर्म की बात
Anand Teltumbde

अम्बेडकर जयंती पर डॉ. आनंद तेलतुंबडे की गिरफ्तारी : एक राष्ट्रीय शर्म की बात

Dr. Anand Teltumbde’s arrest on Ambedkar Jayanti: a national shame

नई दिल्ली, 13 अप्रैल 2020. देश के दस प्रति,ठित राजनीतिक कार्यकर्ताओं ने क वक्तव्य जारी कर  अम्बेडकर जयंती पर डॉ. आनंद तेलतुंबडे की गिरफ्तारी को एक राष्ट्रीय शर्म की बात कहा है।

वक्तव्य को प्रो. चमनलाल ने अपनी एफबी टाइमलाइन पर पोस्ट किया है, जिसका मजमून निम्न है –

Jai Bhim!

आगामी अम्बेडकर जयंती के साथ मिलकर भारत के सबसे बड़े सार्वजनिक बुद्धिजीवियों में से एक और बाबासाहेब अम्बेडकर की परंपरा की परंपरा के साथ मिलकर, डॉ. आनंद तेलतुंबडे, वास्तव में लोकतांत्रिक भारत के लिए संघर्ष की परंपरा का पालन करेंगे, जेल अधिकारियों को आत्मसमर्पण करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे । । । । । । । वह 14 अप्रैल 2020 को 12 बजे से शाम 2 बजे तक मुंबई में सत्र न्यायालय में आत्मसमर्पण करेंगे । यह सभी दलितों, आदिवासी, ओबीसी, और अल्पसंख्यकों के लिए सभी दलितों के लिए दुखद और शर्मनाक है ।

यह एक दिन के निशान है

– जिस पर यह देश अपने सबसे बड़े दिमाग और दिलों में से एक की 129 वीं जयंती मनाएगा, डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर और जिस पर शक्तिशाली राष्ट्रवादी मशीनरी उस भावना को कुचलने की कोशिश करती है जिसने लोकतंत्र की लौ को हमारे बीच में जीवित रखा;

– जब दुनिया भर में बहुत दमनकारी शासन भी कोरोना वायरस के चेहरे पर राजनीतिक कैदियों को रिहा कर रहे हैं, तो डॉ. teltumbde जैसे महान दिमाग कैद हैं;

– जब हम डॉ. तेलतुंबडे जैसे ऐसे व्यक्ति के संवैधानिक अधिकारों को दरकिनार करने की अनुमति देते हैं;

– जब डॉ. तेलतुंबडे की गिरफ्तारी दलित, आदिवासी, ओबीसी और अल्पसंख्यक बुद्धिजीवियों को जातिवादी मनुवादी मनुवादी शासन की अप्रिय चेतावनी होगी न कि विरोध की आवाज उठाएं ।

इस गिरफ्तारी से पता चलता है कि ‘अपराध’ के लिए भारत की गहराई से जुड़े जातिवाद डॉ. टेलतुंबडे ने नहीं किया है और जिसके लिए कोई सबूत नहीं किया गया है ।

हम दलित, आदिवासी, ओबीसी, और अल्पसंख्यक नेतृत्व से आह्वान करते हैं कि बाबाबासाहेब ने हमारे लिए सर्वोत्तम परंपराओं में न्याय की तलाश करें । जैसा कि डॉ. टेलतुंबडे अपनी नवीनतम पुस्तक द रिपब्लिक ऑफ जाति में लिखते हैं, ” अभागे का प्रकोप दुनिया को डराता है.” इस समय एक साथ आना हमारा कर्तव्य बन जाता है और मांग करता है कि भारतीय अधिकारियों ने डॉ. टेलतुंबडे को जीने और लिखने की अनुमति देते हैं एक स्वतंत्र आत्मा बनो जो हमारे लोकतांत्रिक स्वयं को enlivens करता है, और बीकन बने रहें कि वह एक बेहतर भारत और एक बेहतर दुनिया के लिए शिक्षित, आयोजन और आंदोलन करने के लिए है ।

चलो डॉ बाबासाहेब अम्बेडकर के नाम पर एकजुट हों ।

 

Jai Bhim!

 

हस्ताक्षरकर्ता:

 

डॉ. डॉ. थॉल थिरुमावलवन, सांसद

संस्थापक-अध्यक्ष, विदुथालाई चिरुथाइगल पार्टी

 

  1. RAJA, MP (Rajya Sabha)

महासचिव, भारत की कम्युनिस्ट पार्टी

 

जिग्नेश मेवानी, स्वतंत्र विधायक

वडगाम (गुजरात)

 

डॉ. उदित राज, पूर्व सांसद

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

 

 

प्रकाश अम्बेडकर, पूर्व सांसद

Vanchit Bahujan Aghadi

 

डी. डी. रविकुमार, सांसद

महासचिव, विदुथालाई चिरुथाइगल पार्टी

 

VINAY RATAN SINGH

राष्ट्रीय अध्यक्ष भीम आर्मी भारत एकता मिशन

 

NAUSAD SOLANKI, MLA, Gujarat

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

 

प्रो. डॉ. सुजाता सुरेपल्ली

संयोजक, बहुजन प्रतिरोध मंच, तेलंगाना

 

Dr. RAJKUMAR CHABBEWAL, MLA (Hoshiyarpur, Punjab)

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

monkeypox symptoms in hindi

‘मंकीपॉक्स’ का खतरा! क्या है मंकीपॉक्स वायरस? जानिए लक्षण और बचाव

मंकीपॉक्स वायरस के संक्रमण News about Monkeypox Virus Infections इसे मंकीपॉक्स क्यों कहा जाता है …