Home » Latest » मुश्किल वक्त में मोदी जी का इस वर्ष का पहला विदेश दौरा
pm modi's europe tour

मुश्किल वक्त में मोदी जी का इस वर्ष का पहला विदेश दौरा

मुश्किल वक्त में मोदी जी का यूरोप दौरा | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यूरोप दौरे पर संपादकीय टिप्पणी

देशबन्धु में संपादकीय आज (Editorial in Deshbandhu today) | Modi ji’s first foreign tour of this year in difficult times

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी साल 2022 के पांचवें महीने में पहली विदेश यात्रा पर निकले हैं। जर्मनी, डेनमार्क और फ्रांस इन तीन देशों की तीन दिन की यात्रा पर प्रधानमंत्री गए हैं। दौरे पर रवानगी के वक्त उन्होंने कहा था कि उनका यूरोप दौरा ऐसे समय हो रहा है जब यह क्षेत्र कई चुनौतियों का सामना कर रहा है। प्रधानमंत्री की इस बात से असहमत होने का कोई कारण नहीं है। रूस और यूक्रेन के बीच जंग को दो माह से ऊपर हो चुके हैं। लेकिन अब तक सुलह के कोई आसार नजर नहीं आ रहे। रूस पर अमेरिका समेत अन्य पश्चिमी देशों के प्रतिबंधों का कोई असर नहीं हुआ। जबकि नाटो देशों से मदद की उम्मीद में यूक्रेन तबाह हो गया है।

यूरोप में युद्ध के संकट से पहले दो साल कोरना संकट में निकले

यूरोप में युद्ध का ये संकट तो इस साल आया है, इससे पहले के दो साल कोरोना की मार सहते हुए निकले हैं। इसलिए वहां भी आर्थिक संकट, सामाजिक उथल-पुथल, राजनैतिक असंतोष ये सब किसी न किसी तरह महसूस किए जा रहे हैं।

इस चुनौती भरे दौर में प्रधानमंत्री मोदी अपनी विदेश यात्रा से यूरोपीय साझेदारों के साथ सहयोग की भावना को मजबूत करेंगे। इस यात्रा में भारत तथा यूरोप के बीच व्यापार, रक्षा, सुरक्षा और ऊर्जा संबंधों को आगे बढ़ाने पर ज़ोर रहेगा। लेकिन ये उद्देश्य किस तरह पूरे होंगे, ये अभी कह पाना कठिन है।

रूस और यूक्रेन के बीच जंग में भारत का रुख काफी हद तक तटस्थ रहा है। अमेरिका-यूरोप के दबाव के बावजूद भारत ने रूस के खिलाफ कोई कड़ा कदम नहीं उठाया है।

क्या मौजूदा हालात में भारत गुटनिरपेक्षता के सिद्धांत पर सफल हो सकता है?

यूक्रेन पर हमले के लिए भारत रूस को खुले तौर पर कुछ नहीं कह रहा है, और बातचीत तथा कूटनीति पर ज़ोर दे रहा है, इसके साथ ही रूस के साथ हथियारों और तेल का व्यापार जारी रखे हुए है। रविवार को विदेश सचिव विनय मोहन क्वात्रा ने कहा है कि, ‘जहां तक यूक्रेन पर भारत के रुख़ का सवाल है, उसे कई मंचों पर बहुत विस्तार से बताया गया है, और स्पष्ट किया गया है ‘हमारा रुख़ हमेशा से ये रहा है कि यूक्रेन में युद्ध थमना चाहिए, और समाधान का रास्ता कूटनीति और बातचीत से होकर जाता है’।

रूस भारत का पुराना और विश्वस्त मित्र देश रहा है, लेकिन बदलते वक्त के साथ भारत के आर्थिक-सामरिक-वाणिज्यिक हित अन्य देशों के साथ भी जुड़े हैं। ऐसे में गुटनिरपेक्षता के सिद्धांत पर चलते हुए अपने हितों का संतुलन साधना कठिन है।

पीएम मोदी पर भारत को रूस के खिलाफ बोलने का दबाव होगा

प्रधानमंत्री के तीन दिनों के दौरे में उन पर यह दबाव बनाने की कोशिश फिर की जाएगी कि वे रूस के खिलाफ कुछ कहें या भारत के नजरिए में कोई बदलाव लाया जाए। अगर भारत यूरोप के अपने साझेदारों के दबाव में झुकता दिखता है तो फिर गुटनिरपेक्षता के सिद्धांत को ठेस पहुंचेगी और रूस के साथ संबंधों में खटास आएगी। लेकिन अगर भारत किसी भी दबाव में नहीं आता है, तो फिर क्या हमारे यूरोपीय साझेदार व्यापार, रक्षा और ऊर्जा क्षेत्र में मदद और सहयोग का हाथ बढ़ाते हैं, ये देखना होगा।

भारत के लिए ये समय दुधारी तलवार पर चलने जैसा है, जहां हर कदम फूंक-फूंक कर रखना होगा। क्योंकि राष्ट्रप्रमुखों के दौरों और मुलाकातों के वक्त दोस्ती और सद्भाव की बड़ी बातें होती हैं, लेकिन उन पर अमल हो, तभी इन दौरों की सार्थकता होगी।

देश के हालात कहीं ज्यादा चुनौतीपूर्ण

वैसे मोदीजी केवल यूरोप के चुनौती भरे वक्त में यात्रा पर नहीं हैं। इस वक्त देश में कहीं ज्यादा चुनौतीपूर्ण हालात हैं। महंगाई, बेरोजगारी और कमजोर अर्थव्यवस्था का संकट तो है ही, देश इस वक्त बिजली और ऊर्जा के भी भारी संकट से गुजर रहा है। सरकार ने पहले से अनुमान लगा लिया होता कि हमारे पास कितने दिन का कोयला बचा है और उसकी आपूर्ति न होने से किस तरह की वैकल्पिक व्यवस्था हो सकती है, तो शायद इस संकट को टाला जा सकता था। मगर सरकार ने आग लगने के बाद कुआं खोदने का फैसला लिया है। बिजली की कमी कुछेक हफ्तों तक और परेशान करने के बाद शायद दूर भी हो जाए।

लेकिन देश में इन के अलावा सामाजिक ताने-बाने के बिखरने का संकट भी गहरा गया है।

पिछले कई दिनों से सांप्रदायिक हिंसा और तनाव के माहौल में मोदीजी से उम्मीद की जा रही थी कि वे कभी तो कुछ कहेंगे और हिंदुत्व के नाम पर नफरत फैलाने वालों को कोई नसीहत देंगे। मगर कुछ बोलना या शांति की अपील करना तो दूर, मोदीजी अल्पसंख्यकों और पीड़ितों को उनके हाल पर छोड़ते हुए विदेश चले गए। 3 दिनों में 65 घंटों में कम से कम 25 कार्यक्रमों में शामिल होने का एक नया रिकार्ड शायद उनके नाम दर्ज हो जाएगा। लेकिन इससे भारत की आंतरिक समस्याओं पर क्या फर्क पड़ेगा, ये सवाल तो उठेगा ही।

आज का देशबन्धु का संपादकीय (Today’s Deshbandhu editorial) का संपादित रूप साभार.

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में देशबन्धु

Deshbandhu is a newspaper with a 60 years standing, but it is much more than that. We take pride in defining Deshbandhu as ‘Patr Nahin Mitr’ meaning ‘Not only a journal but a friend too’. Deshbandhu was launched in April 1959 from Raipur, now capital of Chhattisgarh, by veteran journalist the late Mayaram Surjan. It has traversed a long journey since then. In its golden jubilee year in 2008, Deshbandhu started its National Edition from New Delhi, thus, becoming the first newspaper in central India to achieve this feet. Today Deshbandhu is published from 8 Centres namely Raipur, Bilaspur, Bhopal, Jabalpur, Sagar, Satna and New Delhi.

Check Also

national news

भारत में मौत की जाति 

Death caste in India! क्या मौत की जाति भी होती है? यह कहना अजीब लग …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.