ईद आई अजब एक उदासी लिये !

Eid Aayee Ajab .........

मोहम्मद ख़ुर्शीद अकरम सोज़

 

—————-

ईद आई अजब एक उदासी लिये

कोई कैसे किसी को मुबारक कहे

————

ऐ ख़ुदा शुक्र है तेरी तौफ़ीक़ से

रोज़े रमज़ान के सारे पूरे हुए

ईद का चाँद भी आ गया है नज़र

इस पे कोविड का लेकिन पड़ा है असर

अब के आई है ईद ऐसे माहौल में

ख़ौफ़ छाया कोरोना का है हर तरफ़

लाखों इंसान हैं बे-बसी में पड़े

अल-मदद ऐ ख़ुदा की सदा हर तरफ़

नाम :- मोहम्मद खुर्शीद अकरम तख़ल्लुस : सोज़ / सोज़ मुशीरी वल्दियत :- मौलाना अब्दुस्समद ( मरहूम ) जन्म तिथि :- 01/03/1965 जन्म स्थान : - बिहार शरीफ़, ज़िला :- नालंदा (बिहार) शिक्षा :- 1) बी.ए.             2) डिप. इन माइनिंग इंजीनियरिंग     उस्ताद-ए-सुख़न :-( स्व) हज़रत मुशीर झिन्झानवी देहलवी काव्य संकलन : - सोज़-ए-दिल सम्मान :- 1. आदर्श कवि सम्मान, और साहित्य श्री सम्मान संप्रति :- कोल इंडिया की वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड में कार्यरत संपर्क :- बी-22, कैलाश नगर, पोस्ट :- साखरा(कोलगाँव), तहसील :- वणी ज़िला :- यवतमाल , पिन:- 445307 (महाराष्ट्र)
Mohammad Khursheed Akram Soz

हर तरफ़ दुख के बादल हैं छाये हुए

जिस तरफ़ भी किसी की नज़र जाती है

न उमंग है कोई, न कोई जोश है

हर एक रूह प्यासी नज़र आती है

————-

ईद आई अजब एक उदासी लिये !!!

कोई कैसे किसी को मुबारक कहे

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें