Home » Latest » यह ज़ुल्मतों का है दौर कैसा !
Ek Nazm Safoora Zargar ke liye

यह ज़ुल्मतों का है दौर कैसा !

यह ज़ुल्मतों का है दौर कैसा !

(एक नज़्म सफ़ूरा ज़रगर के लिये)

मोहम्मद ख़ुर्शीद अकरम सोज़

—————-

यह ज़ुल्मतों का है दौर कैसा !

कि जिस ने हक़ की सदा बुलंद की

उसी को मुजरिम बना दिया है

क़लम की सच्ची वो इक सिपाही

वो हक़-परस्ती की इक निशानी

गोया कि सुक़रात की कहानी

सफ़ूरा ज़रगर ! सफ़ूरा ज़रगर !!

वतन के दस्तूर की हिमायत में

सदायें अपनी बुलंद करना

सफ़ूरा ज़रगर  का जुर्म ठहरा

सफ़ूरा ज़रगर जो गर्भवती है,

वो क़ैद-ओ- बंद की

सऊबतों से गुज़र रही है

उसे ज़मानत नहीं मिली है

यह ज़ुल्मतों का है दौर कैसा !

कि जिस ने हक़ की सदा बुलंद की

उसी को मुजरिम बना दिया है

—————–

यह ज़ुल्मतों का है दौर कैसा !

हज़ारों ख़ूनी , दरिंदे, ज़ानी

वतन से ग़द्दारी करने वाले

यहाँ पे आज़ाद फिर रहे हैं

यह हमारे सिस्टम की बे-बसी है ,

या और कुछ है ?

कि इन दरिंदों को जान कर भी

इन ही के आगे वो सर-नगूँ है, और

न जाने कितने जराएम-पेशा

हमारी संसद में भर चुके हैं !

यह हमारे सिस्टम की बे-बसी है ,

या और कुछ है ?

कि जिस ने हक़ की सदा बुलंद की

उसी को मुजरिम बना दिया है !

सफ़ूरा ज़रगर जो गर्भवति है,

उसे ज़मानत नहीं मिली है !

*******

शब्दार्थ :- 1. ज़ुल्मतों = अंधेरों, 2. हक़ = सच, 3. सदा = आवाज़, 4. हक़-परस्ती = सत्यवादिता,

  1. ज़ानी = बलात्कारी, 6. सर-नगूँ = नतमस्तक, 7. जराएम-पेशा = अपराधी , 8.सऊबतों = तक्लीफ़ों

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

vote

विधानसभा चुनाव से पहले वोट बैंक की खेती! | PM Modi in Dehradun

चुनाव से पहले वोटबैंक की खेती ! यूपी विधानसभा चुनाव 2022. पीएम मोदी देहरादून में. …