Home » समाचार » देश » रेणुकूट के ईएसआई अस्पताल का हो जीर्णोद्धार- वर्कर्स फ्रंट
Health news

रेणुकूट के ईएसआई अस्पताल का हो जीर्णोद्धार- वर्कर्स फ्रंट

ESI Hospital in Renukoot to be renovated – Workers Front

ओबरा ‘सी‘ के मजदूरों की ईएसआई कटौती बंद कर उनका जमा पैसा हो वापस

दिनकर कपूर ने दिया निदेशक ईएसआई कानपुर को पत्रक

सोनभद्र, 11 दिसम्बर 2019, रेणुकूट स्थित ईएसआई अस्पताल का जीर्णोधार करने, यहां विशेषज्ञ डाक्टरों समेत सम्पूर्ण स्टाफ की नियुक्ति करने, आम जनता को भी इसमें इलाज की सुविधा देने, सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद ओबरा ‘सी‘ के मजदूरों के वेतन से जारी ईएसआई की कटौती बंद करने व उनका जमा पैसा मय ब्याज वापस करने, सोनभद्र के अनपरा, ओबरा, लैंकों, आल्ट्रा टेक, खनन व क्रशर श्रमिकों को ईएसआई का लाभ देने सम्बंधी मांगों पर आज श्रम बंधु व वर्कर्स फ्रंट के प्रदेश अध्यक्ष दिनकर कपूर व एक्टू जिला सचिव राणा प्रताप सिंह ने कानपुर में उ0 प्र0 के ईएसआई निदेशक मिलकर पत्रक दिया।

पत्रक में उन्होंने रेणुकूट स्थित जिले के एकमात्र ईएसआई अस्पताल की दुर्दशा को लाते हुए इसके तत्काल जीर्णोधार की मांग की।

पत्रक में कहा गया कि मजदूरों की जीवन सुरक्षा के लिए बेहद जरूरी भारत सरकार की कर्मचारी राज्य बीमा योजना (ईएसआई) को तमाम पत्रक देने के बावजूद पिछले दो सालों से लागू नहीं किया जा रहा है। रेनुसागर जैसे कुछ एक औद्योगिक प्रतिष्ठानों में लागू किया भी गया वहां भी लाखों रूपए की कटौती करने के बावजूद अभी तक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं करायी गयी। सुप्रीम कोर्ट ने निर्माण क्षेत्र में कार्यरत मजदूरों के बारे में कहा है कि चूंकि यह श्रमिक निर्माण कर्मकार बोर्ड से लाभाविंत है इसलिए न तो इनसे ईएसआई का अंशदान लिया जायेगा और न ही इनको इसका लाभ दिया जायेगा बावजूद इसके निर्माणाधीन ओबरा ‘सी‘ परियोजना में मजदूरों के वेतन से ईएसआई अंशदान काटा जा रहा है जो अवैधानिक है। इसलिए मय ब्याज यह पैसा मजदूरों व सेवायोजकों को वापस करना चाहिए। क्षेत्रीय निदेशक ने इन सवालों पर विधि के अनुरूप कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

दिनकर कपूर ने जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि यदि यह मांगें पूरी नहीं होती तो मजदूरों की जीवन सुरक्षा के लिए ईएसआई को लागू कराने हेतु जिले में बड़ा आंदोलन शुरू किया जायेगा।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

air pollution

ठोस ईंधन जलने से दिल्ली की हवा में 80% वोलाटाइल आर्गेनिक कंपाउंड की हिस्सेदारी

80% of volatile organic compound in Delhi air due to burning of solid fuel नई …

Leave a Reply