Home » Latest » जानिए वृक्षों के बारे में आठ अनजान बातें

जानिए वृक्षों के बारे में आठ अनजान बातें

आत्मरक्षा और संवाद स्थापित करने की कला,वन्य जीवन के लिए उपयोगी हैं पेड़,पेड़ का महत्व क्या है,वृक्षों से हमें क्या क्या लाभ मिलते हैं,पेड़ों का महत्व,| Importance of trees in Hindi,Essay on Importance of Trees in Hindi

Know eight unknown things about trees

वृक्षों से हमें क्या क्या लाभ मिलते हैं?

पेड़ों का महत्व | Importance of trees in Hindi

Essay on Importance of Trees in Hindi

भारत सरकार द्वारा वृक्षारोपण को प्रोत्साहन देने के लिए हर साल जुलाई के पहले हफ्ते में वन महोत्सव (Van Mahotsav or Vanamahotsava or Forest Festival) आयोजित किया जाता है। दुनिया भर में ग्लोबल वार्मिंग और पर्यावरण प्रदूषण को नियंत्रण रखने के लिए वृक्ष लगाने पर जोर दिया जाता है।

पेड़ का महत्व क्या है?

आखिर पौधे में ऐसा क्या खास है जो विश्व में इनके संरक्षण पर जोर दिया जाता है। दरअसल ये पेड़ ही हैं जो हमारे आसपास के वातावरण को शुद्ध रखते हैं और जीवन के लिए अनुकूल बनाते हैं। आइये इस खास मौके पर जानें पेड़ों के बारे में कुछ अनजानी बातें।

वातावरण में ऑक्सीजन और कॉर्बन का संतुलन बनाते हैं पेड़

एक पूर्ण विकसित पेड़ एक साल में 22.7 किलोग्राम यानि करीब 50 पॉण्ड कॉर्बन सोखता है। करीब इतना ही कॉर्बन एक कार 41,500 किलोमीटर तक चलने में पैदा करती है। यही पेड़ प्रति वर्ष करीब 2,721 किलाग्राम ऑक्सीजन उत्पन्न करता है जो दो व्यक्तियों के सरवाइव करने के लिए पर्याप्त होती है।

एक शोध के अनुसार पेड़ों के बढ़ने की गति तेज होती है और समय के साथ उनकी कार्बन सोखने और फोटोसिंथेसिस करने की क्षमता (The ability to adsorb carbon and perform photosynthesis) भी बढ़ती जाती है।

वन्य जीवन के लिए उपयोगी हैं पेड़ | Trees are useful for wildlife

हम सभी जानते हैं कि पेड़ वन्य जीवन के लिए अत्यंत उपयोगी होते हैं, परंतु क्या आप जानते हैं कि कितने उपयोगी होते हैं। इसे एक उदाहरण से समझिये। एक इंग्लिश ओक का पेड़ ऑक्सीजन और कॉर्बन के संतुलन के अलावा हजारों कीटों और उसकी अति सूक्ष्म प्रजातियों को पालता है। एक ओक का पेड़ करीब 284 इंन्सेक्टस और 324 टैक्सा को सपोर्ट करता है जिससे कई चिड़ियों और स्तनधारियों को भोजन प्राप्त होता है और प्रकृति में संतुलन स्थापित होता है। इसके अलावा इससे कई शाकाहारी वन्य जीवों को भोजन मिलता है जिसकी वजह से मांसाहारी पशु भी आदमखोर नहीं बनते। यानि एक पूरी जीवन की चेन चलती है।

बिजली भी बचाते हैं पेड़

जी हां जिन घरों के आसपास पेड़ों की घनी छाया होती है उनके घरों में एसी कम बिजली में ज्यादा कूलिंग करते हैं। इसके अलावा छाया और उमस और घुटन से भी राहत मिलती है। पेड़ों से भरे इलाके के घरों में एसी करीब 37 प्रतिशत तक बिजली बचाते हैं।

खोने पर रास्ता भी दिखाते हैं पेड़

अगर आप कहीं रास्ता भटक जायें और कम्पास भी ना हो तो चिंता ना करें पेड़ इसमें भी सहायता करते हैं। आप कटे हुए पेड़ के तने पर बने रिंग्स से रास्ता खोजें। ये रिंग उत्तर की ओर गहरे और दक्षिण की ओर हल्के होते हैं।

डायनासोर के खत्म होने के पीछे भी पेड़

डायनासोर के लुप्त होने के पीछे भी पेड़ों का हाथ है। कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि क्लाइमेट चेंज के चलते पेड़ों के तेजी से हुए विकास के चलते डायनासोर अपनी डाइट के साथ सामंजस्य नहीं बैठा पाये और पाचन संबधी समस्याओं के कारण विलुप्त होते गए।

आत्मरक्षा और संवाद स्थापित करने की कला भी सिखाते हैं पेड़

जब पेड़ों पर कोई हमला करता है तो वो तुरंत आत्मरक्षा के लिए एक खास किस्म का रसायन उत्सर्जित करने लगते हैं। पेड़ों की आत्मरक्षा प्रणाली (tree self defense system) काफी सशक्त होती है जो इंसानों को सीखनी चाहिए। उसी तरह जैसे ही एक वृक्ष पर हमला होता है आसपास के वृक्षों तक सूचना पहुंच जाती है और वो भी अपनी सुरक्षा प्रणाली को मजबूत कर लेता है। इस तरह से पेड़ों की संवाद संप्रेषण भी काफी मजबूत होती है।

सबसे प्रचीन हैं पेड़

एक मान्यता के अनुसार वृक्ष दुनिया की सबसे प्राचीन जीवित वस्तु हैं। कुछ पेड़ तो 80,000 साल तक पुराने हैं। स्पेन की पंडो कॉलोनी में प्राचीनतम वृक्ष पाये जाते हैं।

(स्रोत -देशबन्धु)

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

entertainment

कोरोना ने बड़े पर्दे को किया किक आउट, ओटीटी की बल्ले-बल्ले

Corona kicked out the big screen, OTT benefited सिनेमाघर बनाम ओटीटी प्लेटफॉर्म : क्या बड़े …

Leave a Reply