Home » Latest » आलोचनाओं के बाद फेसबुक ने की नई कॉर्पोरेट मानवाधिकार नीति की घोषणा
Facebook logo

आलोचनाओं के बाद फेसबुक ने की नई कॉर्पोरेट मानवाधिकार नीति की घोषणा

Facebook announces new corporate human rights policy after criticisms

The new policy sets out human rights standards. Facebook will strive to respect as defined in international law including the United Nations Guiding Principles on Business and Human Rights (UNGPs).

नई दिल्ली, 18 मार्च 2021. मानवाधिकारों का उल्लंघन किए जाने के मामले में फेसबुक की भूमिका (Facebook’s role in human rights violations) की अकसर आलोचना होती रही है।

इन आलोचनाओं के बाद अब फेसबुक ने ऑनलाइन एक नई कॉर्पोरेट मानवाधिकार नीति की पेशकश की है, जिसमें मानवाधिकार रक्षकों का समर्थन करने के लिए सभी सोशल नेटवर्क और एक कोष शामिल हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस नई नीति का निर्धारण मानवाधिकार मानकों के आधार पर किया गया है। फेसबुक द्वारा अंतर्राष्ट्रीय कानून का पालन करने का प्रयास किया जाएगा, जिसमें संयुक्त राष्ट्र मार्गदर्शक सिद्धांत व्यापार एवं मानवाधिकार भी शामिल है।

Facebook’s Commitment to Human Rights

फेसबुक की मानवाधिकार की निदेशक मिरांडा सिसंस (Miranda Sissons, Director of Human Rights) ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा,

“हम इन मानकों को अपने ऐप, प्रोडक्ट्स, नीतियों, प्रोग्रामिंग और व्यवसाय के प्रति अपने समग्र दृष्टिकोण पर किस तरह से लागू करेंगे, यह इन्हीं सब पर निर्भर करेगा। हम अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए खतरा जैसे मानवाधिकार से संबंधित महत्वपूर्ण मुद्दों की बात अपने बोर्ड ऑफ डिरेक्टर्स के सामने रखेंगे।”

उन्होंने कहा,

“हमारा लक्ष्य फेसबुक के लिए, एक व्यवसाय और एक मंच के रूप में, समानता, सुरक्षा, गरिमा और मुक्त भाषण के लिए एक जगह है – मानव अधिकारों के मूल सिद्धांत – और ऐसे सिस्टम का निर्माण करना जो मानवाधिकारों और यूएनजीपी के मार्गदर्शन का सम्मान करते हैं।”

फेसबुक की तरफ से हर साल एक पब्लिक रिपोर्ट भी जारी किया जाएगा, जिसमें इस बात की जानकारी रहेगी कि इसके प्रोडक्ट्स, पॉलिसी या बिजनेस से संबंधित क्रियाकलापों के दौरान सामने आए मानवाधिकार से संबंधित मुद्दों का इसने किस तरह से निपटारा किया।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply