मौसम बहुत खराब है। फ़िज़ां उससे खराब। ज्यादा जोखिम उठाने की जरूरत नहीं है। घर में रहें

hastakshep
14 Aug 2020
मौसम बहुत खराब है। फ़िज़ां उससे खराब। ज्यादा जोखिम उठाने की जरूरत नहीं है। घर में रहें

मूसलाधार बारिश हो रही है। मौसम बहुत खराब है। फ़िज़ां उससे खराब। गांव में खौफ है (Fear in the village)। आज कोरोना जांच टीम (Corona Investigation Team) आ रही है। जिससे और आतंक फैल गया है। रैपिड पुल टेस्ट होगा। जिसके नतीजे पेचीदे और भ्रामक होने का अंदेशा है। ऊपर से यूपी बॉर्डर पर हिंदुस्तान पाकिस्तान सरहद की तरह सख्त पहरा है।

ज्यादा जोखिम उठाने की जरूरत नहीं है। घर में रहें। सुरक्षित रहे। देह की दूरी बनाए रखें। मास्क जरूर लगाएं (Must apply mask)। सावन को भूल जायें। इस बरसात में भीगेंगे तो कोरोना हो न हो, सर्दी जुकाम भी हो जाये तो कोरोना वाले पकड़कर 14 दिन के लिए बन्द कर देंगे। घर वाले, अड़ोस पड़ोस के लोगों पर बेमतलब पहरा लगेगा।

दो सौ सालों में फ्लू का कोई इलाज या किसी टीके के आविष्कार में नाकामी ही हाथ लगी है, क्योंकि यह जेनेटिकली बदलता रहता है और स्वपोषित है। कोरोना भी फ्लू है और बहुत तेज़ी से फैल रहा है। बन्द करने के सिवाय जांच के बाद भी किसी इलाज का कोई आसार नहीं है। टीका और दवा के सारे दावे फर्जी हैं, धंधा है। अस्पताल भी अब सुरक्षित नहीं हैं और इस बरसात में कोविड सेंटर (Covid Center in Rainy) के बारे में पूछिये मत।

सबसे बेहतर है कि घर में रहें। कामकाज के लिए निकलें तो सुरक्षित माहौल में काम करें। सावधानी और सतर्कता के साथ कोरोना को पास फटकने न दें। गम्भीर बीमारी है तो दवा खायें। शुगर और ब्लड प्रेशर वाले खास परहेज करें। इम्युनिटी बढाते रहें।

आशय यह है कि सकुशल रहें। बेमतलब जोखिम मत लें।

पलाश विश्वास

अगला आर्टिकल