यूपी में लॉक डाउन बढ़ने की आशंका !

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

Fear of increasing lock down in UP

राज्य मुख्यालय लखनऊ। यूपी में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज़ों की संख्या (Number of patients infected with corona virus in U.P.) बढ़ जाने की वजह से लॉक डाउन के 14 अप्रैल से खुलने की संभावना कम हो गई है।

कोरोना वायरस के संक्रमण के मरीज़ों की यूपी में बढ़ती संख्या की गंभीरता को देखते हुए सरकार लॉक डाउन बढ़ा सकती है। हालाँकि यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने साफ़तौर पर यह नहीं कहा कि लॉक डाउन को यूपी सरकार बढ़ाने जा रही है, लेकिन जिस तरीक़े से वह मरीज़ों की संख्या के बढ़ने को बार-बार दोहरा रहे थे, उससे अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि यूपी में 14 अप्रैल के बाद भी लॉक डाउन ही रहेगा, ऐसी आशंका व्यक्त की जा सकती हैं।

यूपी में 14 मेडिकल कॉलेजों में नई लैब बनाने की भी मंज़ूरी दी गई है, जिसमें सहारनपुर, अम्बेडकर नगर, जालौन, कन्नौज, बाँदा, ग्रेटर नोएडा, आज़मगढ़, नोएडा, बदायूँ, अयोध्या, बस्ती, फ़िरोज़ाबाद, बहराइच शाहजहाँपुर में बनायी जाएंगी और जहाँ मेडिकल कॉलेज नहीं है वहाँ  ज़िले स्तर पर सैंपल जमा करने का कार्य किया जाएगा।

कोरोना वायरस कोविड 19 को लेकर जनता को इससे बचने के लिए युवकों को जोड़ा जाएगा, वह अपने स्तर पर मोहल्लों व वार्डों में जाकर लोगों को जागरूक करेंगे। कल धर्माचार्यों के साथ हुई वीडियो कांफ्रेंस में यह विचार आया था कि लोगों को इसके प्रति जागरूकता लाने की ज़रूरत है, ताक़ि हम इस महामारी से बच सकें।

श्री अवस्थी ने कहा कि ग़रीबों के लिए खाने के पैकेट भी बड़े पैमाने पर बाँटे जा रहे हैं, सरकार द्वारा भी और प्राइवेट स्तर पर भी। बहुत लोग ग़रीबों की मदद को आगे आए। हमारे पास आए आँकड़ों के मुताबिक़ छह लाख से अधिक पैक्ट आम लोगों ने बाँटे हैं, जबकि सरकार की ओर से चार लाख से अधिक ग़रीबों को खाना उपलब्ध कराया गया है जो एक अपने आप में अच्छा कार्य है जिसको और भी बढ़ाया जाएगा।

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें