वन विभाग किसानों से जमीन छीनने की कोशिश कर रहा, मैदान में उतरे राकेश सिंह राना

डॉ राकेश सिंह राना ने कहा कि किसानों को घबराने की आवश्यकता नहीं है, किसानों की लड़ाई को सड़क से लेकर न्यायालय तक लड़ा जाएगा। न्याय पाने के लिये हाईकोर्ट एवं सुप्रीम कोर्ट भी जाने की आवश्यकता पड़ी तो जाएंगे और पूरी ताकत से लड़ाई लड़ी जाएगी।

Forest department is trying to snatch land from farmers, Rakesh Singh Rana landed in the field

हाथरस, 08 दिसंबर 2020. हाथरस जनपद के ब्लॉक सिकंदराराऊ के भिसी मिर्ज़ापुर पंचायत की करीब 1200 बीघा जमीन जो किसानों को जिला प्रशासन द्वारा आज से करीब 30 से 40 वर्ष पूर्व पट्टे पर दी गई थी व राजस्व अभिलेखों में भी किसानों का नाम दर्ज है, उसे वन विभाग किसानों से छीनने की कोशिश कर रहा है। लेकिन किसानों को पूर्व एमएलसी डॉ. राकेश सिंह राना का साथ मिल गया है।

बीती 6 दिसंबर को हाथरस के ब्लॉक सिकंदराराऊ के ग्राम हीरापुर में किसानों के बीच बैठक हुई जिसमें इस बात को लेकर किसानों द्वारा बहुत आक्रोश व्यक्त किया गया, क्योंकि यदि जमीन वन विभाग ने छीन ली, तो तमाम किसान परिवार भुखमरी के कगार पर पहुंच जाएंगे।

इस प्रकरण पर डॉ राकेश सिंह राना ने कहा कि किसानों को घबराने की आवश्यकता नहीं है, किसानों की लड़ाई को सड़क से लेकर न्यायालय तक लड़ा जाएगा। न्याय पाने के लिये हाईकोर्ट एवं सुप्रीम कोर्ट भी जाने की आवश्यकता पड़ी तो जाएंगे और पूरी ताकत से लड़ाई लड़ी जाएगी।

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से देवेंद्र सिंह यादव, श्यामवीर सिंह प्रधान, महेंद्र सिंह यादव, महावीर सिंह नेताजी, प्रमोद कुमार, अनार सिंह, किशनपाल, दिनेश कुमार, रामनाथ सिंह, रघुनाथ सिंह, उदयवीर सिंह व मैनेजर माया प्रकाश उपस्थित थे।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations