पूर्व आईजी बोले, पुलिस के अमानवीय एवं क्रूर व्यवहार पर लगे रोक

Former IG said, ban on inhuman and cruel behavior of police

लखनऊ, 30 मार्च : सेवानिवृत्त आईपीएस और आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता एस.आर. दारापुरी ने मांग की है कि “पुलिस के अमानवीय एवं क्रूर व्यवहार पर रोक लगे।”- उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री को भेजे पत्र में उन्होंने लिखा है कि जैसाकि आप अवगत हैं कि इस समय उत्तर प्रदेश में भारी संख्या में प्रवासी मजदूर पैदल चल कर अपने घरों के लिए आ रहे हैं। यह देखा गया है कि कई जगह लाक डाउन के नाम पर पुलिस उनके साथ अमानवीय व्यवहार कर रही है। इस सम्बन्ध में हाल की बरेली की घटना उल्लेखनीय है जिसमें मजदूरों पर पुलिस द्वारा कीटनाशक छिड़क कर उनका सैनीटाईजेशन किया गया (Police in Bareilly sanitized workers by spraying them with pesticides)। यह न केवल अपमानजनक है बल्कि क्रूर एवं अमानवीय भी है। इसी प्रकार कई जगह प्रवासी मजदूरों को मुर्गा बनाया गया तथा उन्हें मेंडक चाल चलवाया गया तथा उन्हें डंडे भी मारे गये।

दारापुरी ने आगे कहा है कि कई जगह पुलिस वाले बहुत अच्छा काम भी कर रहे हैं। वे उन्हें भोजन पानी उपलब्ध करवा रहे हैं. उनका यह कार्य सराहनीय है। मैं इस सम्बन्ध एडीजी इलाहबाद ज़ोन का ख़ास तौर पर ज़िकर करना चाहूँगा जिन्होंने पुलिस वालों के डंडे रखवा कर उन्हें खाली हाथ ड्यूटी करने के लिए कहा है। उन्होंने मजदूरों के लिए सामाजिक संगठनों से आग्रह करके भोजन की व्यवस्था भी की है.

उन्होंने मुख्य मंत्री से अनुरोध है किया है कि आप पुलिस को तुरंत निर्देशित करें कि वे प्रवासी मजदूरों के साथ किसी भी प्रकार का क्रूर एवं अमानवीय व्यवहार न करें। इसके साथ ही जनसेवा का अच्छा काम करने वाले पुलिस अधिकारियों को प्रोत्साहित करने हेतु पुरुस्कृत करने पर विचार भी करें।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations