पूर्व आईजी बोले, पुलिस के अमानवीय एवं क्रूर व्यवहार पर लगे रोक

S.R. Darapuri एस आर दारापुरी,

Former IG said, ban on inhuman and cruel behavior of police

लखनऊ, 30 मार्च : सेवानिवृत्त आईपीएस और आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता एस.आर. दारापुरी ने मांग की है कि “पुलिस के अमानवीय एवं क्रूर व्यवहार पर रोक लगे।”- उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री को भेजे पत्र में उन्होंने लिखा है कि जैसाकि आप अवगत हैं कि इस समय उत्तर प्रदेश में भारी संख्या में प्रवासी मजदूर पैदल चल कर अपने घरों के लिए आ रहे हैं। यह देखा गया है कि कई जगह लाक डाउन के नाम पर पुलिस उनके साथ अमानवीय व्यवहार कर रही है। इस सम्बन्ध में हाल की बरेली की घटना उल्लेखनीय है जिसमें मजदूरों पर पुलिस द्वारा कीटनाशक छिड़क कर उनका सैनीटाईजेशन किया गया (Police in Bareilly sanitized workers by spraying them with pesticides)। यह न केवल अपमानजनक है बल्कि क्रूर एवं अमानवीय भी है। इसी प्रकार कई जगह प्रवासी मजदूरों को मुर्गा बनाया गया तथा उन्हें मेंडक चाल चलवाया गया तथा उन्हें डंडे भी मारे गये।

दारापुरी ने आगे कहा है कि कई जगह पुलिस वाले बहुत अच्छा काम भी कर रहे हैं। वे उन्हें भोजन पानी उपलब्ध करवा रहे हैं. उनका यह कार्य सराहनीय है। मैं इस सम्बन्ध एडीजी इलाहबाद ज़ोन का ख़ास तौर पर ज़िकर करना चाहूँगा जिन्होंने पुलिस वालों के डंडे रखवा कर उन्हें खाली हाथ ड्यूटी करने के लिए कहा है। उन्होंने मजदूरों के लिए सामाजिक संगठनों से आग्रह करके भोजन की व्यवस्था भी की है.

उन्होंने मुख्य मंत्री से अनुरोध है किया है कि आप पुलिस को तुरंत निर्देशित करें कि वे प्रवासी मजदूरों के साथ किसी भी प्रकार का क्रूर एवं अमानवीय व्यवहार न करें। इसके साथ ही जनसेवा का अच्छा काम करने वाले पुलिस अधिकारियों को प्रोत्साहित करने हेतु पुरुस्कृत करने पर विचार भी करें।

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें