Home » समाचार » देश » “खगेन्द्र ठाकुर अमर रहें”, ” खगेन्द्र ठाकुर को लाल सलाम”
funeral of Khagendra Thakur

“खगेन्द्र ठाकुर अमर रहें”, ” खगेन्द्र ठाकुर को लाल सलाम”

Funeral of Khagendra Thakur

खगेन्द्र ठाकुर की अंत्येष्टि में बड़ी संख्या में साहित्य प्रेमी उमड़े। A large number of literary lovers gathered at the funeral of Khagendra Thakur.

खगेन्द्र ठाकुर अमर रहें, जैसे नारे लगते रहे।

पटना, 14 जनवरी। हिंदी के प्रख्यात आलोचक खगेन्द्र ठाकुर की अंत्येष्टि आज बांस घाट पर सम्पन्न हुई। अंत्येष्टि के वक्त बड़ी संख्या में पटना तथा विभिन्न जिलों – आरा, गया, बेगूसराय, मुजफ्फरपुर,, मधुबनी -के कवि, कथाकार, रंगकर्मी, साहित्यकार, सामाजिक कार्यकर्ता, राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि मौजूद थे।

जनशक्ति कालोनी, राजीव नगर रोड नम्बर 24-E

सुबह 10 बजे खगेन्द्र ठाकुर का पार्थिव शरीर जनशक्ति कालोनी, राजीव नगर, रॉड नम्बर 24 E से एक सुसज्जित गाड़ी से निकला। मजदूर संगठन एटक के राज्य अध्यक्ष अजय कुमार, अनिल कुमार, खगेन्द्र ठाकुर के इकलौते पुत्र भास्कर ठाकुर एवं अन्य सम्बन्धी गण गाड़ी के साथ चले। निकलकर अदालत गंज स्थित,  जनशक्ति भवन (कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य कार्यालय) पहुंचा।

जनशक्ति भवन, अदालतगंज, सी.पी.आई का राज्य कार्यालय।

यहां सुबह 10 बजे से लोगों का आना शुरू हो गया था। यहां लोग खगेन्द्र ठाकुर  के बारे में आपस में बातें करते रहे। खगेन्द्र जी से अंतिम दफे कब भेंट हुई, फोन पर कब बातें हुईं, उन्होंने क्या कहा सरीखी बातचीत एक दूसरे से साझा करते रहे।

पार्थिव शरीर आते ही “खगेन्द्र ठाकुर अमर रहें”, ” खगेन्द्र ठाकुर को लाल सलाम” जैसे नारे लगने लगे। उनके शव को वाहन से उतारकर रखा गया और हसुआ/हथौड़े वाले लाल झंडे से लपेटा गया। इस दौरान नारे लगाए जाते रहे।

इसके बाद एक-एक कर सभी उपस्थित लोगों ने माल्यार्पण किया, फूल चढ़ाए। इस दौरान लगातार लोगों का आना लगा रहा।

यहां प्रख्यात कवि आलोकधन्वा, प्रगतिशील लेखक संघ के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव राजेन्द्र राजन, प्रगतिशील लेखक संघ के राज्य महासचिव रवींद्र नाथ राय (आरा), सी.पी.आई के राज्य सचिव सत्यनारायण सिंह, सी.पी.आई(एम.एल) के राज्य सचिव कुणाल, बिहार सरकार के सूचना व जनसम्पर्क मंत्री नीरज कुमार, भाकपा-माले केंद्रीय समिति सदस्य धीरेंद्र झा, सी.पी.आई (एम) के गणेश शंकर सिंह, सुकान्त नागार्जुन, बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष व विधान पार्षद केदारनाथ पांडे, कथाकार संतोष दीक्षित, कथाकार अवधेश प्रीत, कवि-कथाकारशिवदयाल, कवि अनिल विभाकर, कवि सत्येंद्र कुमार,  कवि राजकिशोर राजन, केदारदास श्रम व समाज अध्ययन संस्थान के महासचिव नवीन चन्द्र, एस .के गांगूली, व्यंग्यकार अरुण शाद्वल, इप्टा के राज्य महासचिव तनवीर अख्तर, संस्कृतिकर्मी अनीश अंकुर,  कवि मुसाफिर बैठा, प्राच्य प्रभा के सम्पादक विजय कुमार सिंह,  अरविंद पासवान अक्षय कुमार, नॉवेल्टी एंड कम्पनी के नरेंद्र कुमार झा,  वरिष्ठ पत्रकार अरुण अशेष,  नवेन्दू प्रियदर्शी, विजय नारायण मिश्रा, सुमन्त शरण, शिव कुमार मिश्रा, सुनीता गुप्ता, निवेदिता झा, अरुण हरलीवाल (गया), परमाणु कुमार (गया), कृष्ण कुमार (गया), ललन लालित्य (बेगूसराय), राम कुमार (बेगूसराय), कुमार वरुण, अशोक कुमार सिन्हा, रंगकर्मी सन्तोष झा, रंगकर्मी फिरोज़ अशरफ खान, एटक के राज्य अध्यक्ष अजय कुमार, रंगकर्मी संजय कुमार सिन्हा, सी.पी.आई के पटना ज़िला सचिव रामलला सिंह, अधिवक्ता मदन कुमार सिंह, ए. आई.एस. एफ के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव विश्वजीत, ए. आई.एस. एफ के राष्ट्रीय सचिव सुशील कुमार, परवेज कुमार, सन्यासी रेड, ग़ज़नफर नवाब, विकास कुमार, जनशक्ति के सम्पादक प्रियरंजन, महेश रजक, रंजीत, आदि मौजूद थे।

बांस घाट, विद्युतशवदाह गृह भी साहित्यकार पहुंचते रहे।

लगभग एक घण्टे पश्चात शव को बांस घाट ले जाया गया। जनशक्ति परिसर में उपस्थित अधिकांश लोगों में बांस घाट भी पहुंचे। वहां विद्युतशव दाह गृह में उनकी अंत्येष्टि की गई। यहाँ भी ” खगेन्द्र ठाकुर तेरे अरमानों को, मंजिल तक पहुंचाएंगे” जैसे नारे लगते रहे। यहां भी साहित्यकारों का निरंतर आना लगता रहा। बांस घाट पहुंचने कर श्रद्धा सुमन अर्पित करने वालों में थे लोगों में चर्चित कवि अरुण कमल, कथाकार प्रेम कुमार मणि प्रभात खबर के सम्पादक अजय कुमार, कवि मुकेश प्रत्यूष,  रंगकर्मी जयप्रकाश, रमेश रितम्भर,(मुजफरपुर) प्रणय प्रियम्वद,  कम्युनिस्ट पार्टी के पूर्व विधायक रामनरेश पांडे, डॉ अंकित, अभ्युदय, नवीन, संजीव श्रीवास्तव आदि। सभी लोग खगेन्द्र ठाकुर से जुड़े अपने संस्मरणों को साझा करते रहे।

24 जनवरी को माध्यमिक शिक्षक संघ भवन, में 11 बजे श्रद्धांजलि सभा

इसी दौरान प्रगतिशील लेखक संघ के पदाधिकारियों ने आपस में विचार विमर्श कर 24 जनवरी (शुक्रवार) जमाल रोड स्थित माध्यमिक शिक्षके संघ भवन के बड़े वाकई हॉल में 11 बजे से खगेन्द्र ठाकुर की याद में श्रद्धांजलि सभा करने का निर्णय लिया। इस कार्यक्रम में राज्य भर के साहित्यकार, संस्कृतिकर्मी, लेखक संगठनों के सदस्य इकट्ठा होंगे।

About hastakshep

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *