Home » Latest » गहलोत ने ‘लव-जिहाद’ कानून को बताया असंवैधानिक, बोले विवाह निजी स्वतंत्रता का मामला
Ashok Gehlot

गहलोत ने ‘लव-जिहाद’ कानून को बताया असंवैधानिक, बोले विवाह निजी स्वतंत्रता का मामला

Gehlot calls ‘Love-Jihad’ law unconstitutional, says marriage is a matter of personal freedom

नई दिल्ली, 20 नवंबर 2020. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ‘लव-जिहाद’ को लेकर कहा है कि यह भाजपा का देश को बांटने के लिए बनाया गया एक शब्द है।

अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कहा,

“शादी व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मामला है और इसे रोकने के लिए एक कानून लाना पूरी तरह से असंवैधानिक है।”

‘लव-जिहाद’ पर अपने विचार व्यक्त करते हुए गहलोत ने कई ट्वीट किए।

एक ट्वीट में उन्होंने लिखा,

“लव जिहाद भाजपा द्वारा देश को विभाजित करने और सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने के लिए बनाया गया एक शब्द है। विवाह व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मामला है, उस पर अंकुश लगाने के लिए कानून लाना पूरी तरह से असंवैधानिक है और यह कानून किसी भी अदालत में नहीं टिकेगा। प्यार में जिहाद की कोई जगह ही नहीं है।”

दूसरे ट्वीट में उन्होंने कहा,

“वे देश में एक ऐसा माहौल बना रहे हैं, जहां वयस्क सहमति के लिए राज्य की सत्ता की दया पर निर्भर होंगे। विवाह एक व्यक्तिगत निर्णय है और वे इस पर अंकुश लगा रहे हैं, यह व्यक्तिगत स्वतंत्रता को छीनने जैसा है।”

‘लव-जिहाद’ पर तीसरे ट्वीट में उन्होंने कहा,

“यह सांप्रदायिक सद्भाव को बाधित करने और सामाजिक संघर्ष को बढ़ावा देने और संवैधानिक प्रावधानों की अवहेलना करने वाला है। राज्य नागरिकों के साथ किसी भी आधार पर भेदभाव नहीं करता है।”

बता दें कि उप्र ने ‘लव-जिहाद’ के खिलाफ एक कानून लाने की घोषणा की है और मप्र सरकार भी इसी तर्ज पर एक कानून लाने की योजना बना रही है।
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

guru ravidass

ऐसे थे महान् संत रविदास जी’

संत रविदास जयंती (27 फरवरी) पर विशेष लेख A special article on Guru Ravidass Jayanti …

Leave a Reply