माइक से अज़ान पर रोक का मामला : पत्रकारों के फोन क्यों नहीं उठा रहे डीएम गाजीपुर – शाहनवाज़ आलम

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम (Shahnawaz Alam, Chairman, State Congress Minority Department)

स्थानीय भाजपा नेताओं के दबाव में काम कर रहे हैं ग़ाज़ीपुर डीएम -शाहनवाज़ आलम

Ghazipur DM is working under pressure from local BJP leaders – Shahnawaz Alam

लखनऊ, 26 अप्रैल 2020। कांग्रेस ने ग़ाज़ीपुर ज़िला अधिकारी (Ghazipur District Magistrate) पर बिना किसी शासनादेश के स्थानीय भाजपा और संघ के नेताओं के दबाव में माइक से अज़ान पर रोक लगाने का आरोप (Mike holds off on Ajan) लगाया है।

कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने जारी बयान में कहा है कि कल दोपहर में मुस्लिम समाज के साथ बैठक के बाद डीएम ओम प्रकाश आर्य ने सेहरी और अफ्तार के वक़्त मस्जिद से माइक द्वारा ऐलान की बात मान ली थी। लेकिन शाम होते-होते वो फिर अपने वादे से मुकर गए और पुलिस जगह-जगह जाकर माइक से अज़ान न देने की धमकी देने लगी, जो साबित करता है कि ग़ाज़ीपुर डीएम क़ानून के बजाए स्थानीय भाजपा और संघी नेताओं के दबाव में काम कर रहे हैं जो ओहदे के लिए शर्मनाक है।

शाहनवाज़ आलम ने कहा कि ग़ाज़ीपुर डीएम की स्थानीय भाजपा नेताओं के आगे निरीहता का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि ज़िले के एसपी ओम प्रकाश सिंह मीडिया में माइक से अज़ान न होने देने के किसी भी आदेश से ही इनकार कर ख़ुद डीएम ओम प्रकाश आर्य को झूठा साबित कर रहे हैं और डीएम सवाल पूछने वाले पत्रकारों का फ़ोन नहीं उठा रहे हैं, जो साबित करता है कि उनके पास अपने सनक पर उठने वाले सवालों का जवाब नहीं है।

शाहनवाज़ आलम ने डीएम ग़ाज़ीपुर से अपील की है कि स्थानीय भाजपा नेताओं के दबाव में आने के बजाए साहस का परिचय दें और जिस तरह प्रदेश भर में अज़ान हो रहे हैं उसी तरह ग़ाज़ीपुर में भी होने दें।

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें