#दुष्यंत_किसान_या_कुर्सी : मुश्किल में दुष्यंत चौटाला, किसानों का साथ दें या कुर्सी बचाएं

Haryana Deputy Chief Minister and JJP chief Dushyant Chautala has been caught in a dilemma. There is a crisis in front of him to support the farmers or save the chair.

Haryana Deputy Chief Minister and JJP chief Dushyant Chautala has been caught in a dilemma. There is a crisis in front of him to support the farmers or save the chair.

नई दिल्ली, 09 दिसंबर 2020. हरियाणा के उपमुख्यमंत्री और जजपा प्रमुख दुष्यंत चौटाला गजब धर्मसंकट में फंस गए हैं। उनके सामने संकट है कि किसानों का साथ दें या कुर्सी बचाएं।

दरअसल किसान आंदोलन तेज होता जा रहा है और सरकार के अड़ियल रवैये के चलते फिलहाल किसानों और सरकार के बीच कोई आम सहमति बनती नजर नहीं आ रही है, ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि किसान आंदोलन पूरे देश में और तेज होगा। ऐसे में दुष्यंत चौटाला पर दबाव बढ़ता जा रहा है कि वे कुर्सी को लात मारकर किसानों का साथ दें।

आज सुबह से ट्विटर पर ट्रेंड हो रहा है #दुष्यंत_किसान_या_कुर्सी । आइए देखते हैं लोग ट्विटर पर क्या कह रहे हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations