Home » Latest » क्या सपा ने सलीम शेरवानी को निपटा दिया है ?
Saleem Shervani

क्या सपा ने सलीम शेरवानी को निपटा दिया है ?

बदायूँ, 07 फरवरी 2021. क्या समाजवादी पार्टी ने पूर्व केंद्रीय मंत्री सलीम इकबाल शेरवानी को निपटा दिया है ?

यह चर्चा राजनीति के गलियारों में आम है। दरअसल सलीम शेरवानी हाल ही में देश बचाने के लिए समाजवादी पार्टी में शामिल हुए हैं। वह पहले भी सपा में रहे हैं और केंद्र में मंत्री भी सपा से रहे हैं, लेकिन इसे उनकी सपा में घर वापसी नहीं कहा जा सकता है।

फिलहाल मसला यह है कि श्री शेरवानी के अधिक नजदीकी समझे जाने वाले और गुन्नौर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ चुके पीयूष रंजन यादव की एक फेसबुक पोस्ट से इन कयासों को बल मिला है कि शेरवानी साहब का काम लग गया है।

दरअसल पीयूष रंजन यादव ने बदायूँ में समाजवादी पार्टी की मासिक बैठक का एक चित्र पोस्ट करते हुए टिप्पणी की कि,

“लगता है समाजवादी पार्टी ने अभी भी श्री सलीम इकबाल शेरवानी साहब को सदस्यता नहीं दी है….

मासिक बैठक समाजवादी पार्टी बदायूं।“

दरअसल चित्र में कहीं भी शेरवानी ढूंढने पर भी नहीं पाए जा रहे हैं।

अब यह आम चर्चा है कि शेरवानी पहले भी कभी सपा की मासिक बैठकों में शामिल नहीं हुए और न किसी आंदोलन में शामिल हुए जब वे केंद्र में मंत्री और सांसद हुआ करते थे। हाल ही में किसानों के समर्थन में हुए सपा के कार्यक्रमों में भी शेरवानी कहीं दिखाई नहीं पड़े, पता नहीं कहां देश बचा रहे हैं ?

90 के दशक के उत्तरार्द्ध में बबराला में टाटा फर्टिलाइजर्स के विरोध में हुए आंदोलन में शेरवानी की अनुपस्थिति पर तो आंवला से सपा सांसद रहे कुंवर सर्वराज सिंह ने उस समय पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में सीधे सवाल कर दिया था कि शेरवानी पार्टी के आंदोलनों में दिखाई क्यों नहीं देते हैं।

लगता है समाजवादी पार्टी ने अभी भी श्री सलीम इकबाल शेरवानी साहब को सदस्यता नहीं दी है…. मासिक बैठक समाजवादी पार्टी बदायूं।

Posted by Piyush Ranjan Yadav on Saturday, February 6, 2021
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

lallu handed over 10 lakh rupees to the people of nishad community who were victims of police harassment

पुलिसिया उत्पीड़न के शिकार निषाद समाज के लोगों को लल्लू ने 10 लाख रुपये की सौंपी मदद

कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी का संदेश और आर्थिक मदद लेकर उप्र कांग्रेस कमेटी के …

Leave a Reply