हाथरस : प्रियंका ने योगी से पूछा 14 दिन से कहां सोए हुए थे, कैसे मुख्यमंत्री हैं आप?

कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा ने हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पूछा है कि वे14 दिन से कहां सोए हुए थे और वे कैसे मुख्यमंत्री हैं?

Hathras: Priyanka asked Yogi where he was sleeping for 14 days, how are you the Chief Minister?

लखनऊ, 30 सितंबर 2020. कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा ने हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पूछा है कि वे14 दिन से कहां सोए हुए थे और वे कैसे मुख्यमंत्री हैं?

प्रियंका ने ट्वीट किया –

“मैं यूपी के मुख्यमंत्री जी से कुछ सवाल पूछना चाहती हूँ-

परिजनों से जबरदस्ती छीन कर पीड़िता के शव को जलवा देने का आदेश किसने दिया?

पिछले 14 दिन से कहां सोए हुए थे आप? क्यों हरकत में नहीं आए?

और कब तक चलेगा ये सब? कैसे मुख्यमंत्री हैं आप?”

इससे पहले सुबह प्रियंका ने ट्वीट किया,

“रात को 2.30 बजे परिजन गिड़गिड़ाते रहे लेकिन हाथरस की पीड़िता के शरीर को उप्र प्रशासन ने जबरन जला दिया।

जब वह जीवित थी तब सरकार ने उसे सुरक्षा नहीं दी। जब उस पर हमला हुआ सरकार ने समय पर इलाज नहीं दिया।

पीड़िता की मृत्यु के बाद सरकार ने परिजनों से बेटी के अंतिम संस्कार का अधिकार छीना और मृतका को सम्मान तक नहीं दिया।

घोर अमानवीयता। आपने अपराध रोका नहीं बल्कि अपराधियों की तरह व्यवहार किया।अत्याचार रोका नहीं, एक मासूम बच्ची और उसके परिवार पर दुगना अत्याचार किया।

@myogiadityanath इस्तीफा दो। आपके शासन में न्याय नहीं, सिर्फ अन्याय का बोलबाला है।“

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations