अधिक उम्र में बच्चे पैदा करना : आपकी उम्र के अनुसार स्वस्थ गर्भधारण कैसे करें

अधिक उम्र में बच्चे पैदा करना : आपकी उम्र के अनुसार स्वस्थ गर्भधारण कैसे करें

Having Kids Later in Life : Healthy Pregnancies as You Age

नई दिल्ली, 30 अगस्त 2022. ऐसे कई कारण होते हैं, जिनके कारण आप बच्चे पैदा करने में विलंब कर सकते हैं। हो सकता है आप अपने करियर पर ध्यान देना चाह सकते हैं। या पहले कुछ पैसे बचाएं। यू.एस. में लगभग 20% महिलाओं का अब 35 वर्ष की आयु के बाद पहला बच्चा है।

आपने सुना होगा कि उम्र बढ़ने के साथ गर्भवती होना अधिक कठिन हो सकता है। या यह सुना होगा कि उम्र बढ़ने के साथ गर्भवती होना माँ और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य के लिए जोखिम भरा है। देर से बच्चे होने पर ये मुद्दे हो सकते हैं, जबकि इनमें से कई चिंताएँ प्रबंधनीय हैं। एनआईएच न्यूज इन हेल्थ (NIH News in Health) के जुलाई 2022 के अंक में अधिक उम्र में गर्भवती होने में क्या दिक्कतें हैं, उनका क्या हल है और क्या सावधानियां बरती जाएं, पर विस्तार से बताया गया है।

गर्भवती हो रही हैं (Getting Pregnant)

उम्र के साथ गर्भवती होना और मुश्किल हो सकता है। उसके कई कारण हैं। एक कारण यह है कि जैसे-जैसे आप बड़े होते जाते हैं, पुरुषों और महिलाओं दोनों की प्रजनन क्षमता कम होती जाती है।

ओव्यूलेशन क्या होता है?

महिलाएं अंडे की एक निश्चित संख्या के साथ पैदा होती हैं। एक महिला का अंडाशय हर महीने निषेचित होने के लिए एक अंडा छोड़ता है। इस प्रक्रिया को ओव्यूलेशन (ovulation) कहा जाता है। लेकिन उससे पहले उसका शरीर इस प्रक्रिया की तैयारी में कई अंडों को भर्ती करता है। मुट्ठी भर अंडे विकसित और परिपक्व होते हैं, लेकिन आमतौर पर केवल एक ही इसे ओव्यूलेशन के लिए बनाता है।

एनआईएच में प्रजनन विशेषज्ञ डॉ एलन डेचेर्नी (Dr Alan Decherney, an NIH fertility expert), बताते हैं कि “महिलाओं की अधिक उम्र के रूप में वे अभी भी प्रजननक्षम (fertile) होती हैं, लेकिन उनकी गर्भावस्था की संभावना कम हो जाती है क्योंकि वे उतने अच्छे अंडे नहीं बना रही हैं जो सामान्य रूप से निषेचित और विभाजित होंगे और एक भ्रूण बनेंगे।”

30 साल की उम्र के बाद घट जाती है महिलाओं की प्रजनन क्षमता

30 साल की उम्र के बाद हर साल एक महिला की प्रजनन क्षमता कम होती जाती है। रजोनिवृत्ति तक पहुंचने तक उसके अंडों की संख्या और गुणवत्ता कम हो जाती है। मेनोपॉज आमतौर पर 45 से 55 साल की उम्र के आसपास होता है। उस समय के दौरान महिलाओं के पीरियड्स आना बंद हो जाते हैं और वे फर्टाइल नहीं रह जाती हैं।

अधिक उम्र में बाप बनने का बच्चों पर असर

अधिक उम्र के पुरुष कम शुक्राणु या निम्न गुणवत्ता वाले शुक्राणु बना सकते हैं। अंडे और शुक्राणु की गुणवत्ता में उम्र से संबंधित गिरावट बच्चे में कुछ स्वास्थ्य स्थितियों के विकसित होने की अधिक संभावना से जुड़ी होती है। इसमें ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर, डाउन सिंड्रोम और सिज़ोफ्रेनिया शामिल हैं। लेकिन ज्यादातर स्वस्थ महिलाएं जो अपने 30 और 40 के दशक में जन्म देती हैं, उनके स्वस्थ बच्चे होते हैं।

गर्भावस्था की समस्याएं (Pregnancy Problems)

यदि आपकी उम्र 35 वर्ष से अधिक है और छह महीने तक प्रयास करने के बाद भी आप गर्भवती नहीं हुई हैं, तो अपने चिकित्सक से बात करें। हो सकता है आप बांझपन की समस्या का सामना कर रही हों। बांझपन तब होता है जब एक जोड़ा गर्भवती नहीं हो सकता है या एक महिला गर्भावस्था को पूरा करने में सक्षम नहीं है।

एनआईएच-वित्त पोषित शोधकर्ता पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए बांझपन के कारणों का अध्ययन कर रहे हैं। बांझपन के कई कारण होते हैं।

महिलाओं में बांझपन का सबसे आम कारण

डॉ एस्थर ईसेनबर्ग, जो एनआईएच में प्रजनन चिकित्सा और बांझपन अनुसंधान की देखरेख करते हैं, कहते हैं, “महिलाओं में बांझपन का सबसे आम कारण ओव्यूलेशन असामान्यताओं से संबंधित है”।

आपके ओवुलेशन चक्र को कई कारक प्रभावित करते हैं। अधिक उम्र होना उनमें से एक है। आप नियमित रूप से ओव्यूलेट नहीं कर सकते हैं, या कभी-कभी बिल्कुल नहीं।

एंडोमेट्रियोसिस : बांझपन का एक अन्य कारण

बांझपन का एक अन्य कारण एंडोमेट्रियोसिस है। एंडोमेट्रियोसिस एक ऐसी बीमारी है जिसमें आमतौर पर गर्भाशय (गर्भ) में पाए जाने वाले ऊतक इसके बाहर बढ़ते हैं। एंडोमेट्रियोसिस दर्दनाक माहवारकी, पेशाब या मल त्याग का कारण बन सकता है। यह महिलाओं में कम से कम एक तिहाई बांझपन के लिए जिम्मेदार है। यह 30 और 40 के दशक की उम्र में महिलाओं के लिए अधिक आम है।

उम्र बढ़ने के साथ फाइब्रॉएड का खतरा

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, फाइब्रॉएड की आशंका भी अधिक होती है। ये गर्भाशय की मांसपेशियों की कोशिकाओं से बनने वाली असामान्य वृद्धि हैं। वे गर्भाशय की दीवार के अंदर या बाहर बढ़ सकते हैं। ये वृद्धि एक महिला को गर्भवती होने से रोक सकती है। ज्यादातर महिलाओं को अपने जीवनकाल में कम से कम एक फाइब्रॉएड होता है। लेकिन वे 40 से 50 की उम्र के बीच सबसे आम हैं।

कुछ स्वास्थ्य स्थितियों के उपचार भी बांझपन के अन्य कारण हो सकते हैं। ईसेनबर्ग कहते हैं, “जिन महिलाओं का कैंसर का इलाज किया गया है, उनमें अंडों की संख्या कम हो सकती है”।

ईसेनबर्ग कहते हैं, “यदि आपको अन्य स्थितियां हैं जिनके लिए अंडाशय या फाइब्रॉएड को हटाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है, या जिसमें आपने गर्भाशय पर सर्जरी कराई है- तो यह आपकी प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित कर सकती है।”

अधिक उम्र में मां बनने के लिए मदद ढूंढना

ईसेनबर्ग कहते हैं “अगर बच्चा पैदा करने में सक्षम होना एक मुद्दा बन जाता है, तो इसके उपचार होते हैं, अधिकांश महिलाएं मदद से बच्चा पैदा करने में सक्षम होती हैं।”

बांझपन के लिए उपचार (Treatments for infertility) कारण पर निर्भर करता है। एंडोमेट्रियोसिस और फाइब्रॉएड का इलाज दवाओं, सर्जरी और अन्य तरीकों से किया जा सकता है। ओव्यूलेशन को प्रोत्साहित करने में दवाएं मदद कर सकती हैं, इन्हें फर्टिलिटी ड्रग्स कहा जाता है। कुछ को मौखिक रूप से लिया जाता है और अन्य को इंजेक्शन लगाया जाता है।

अन्य विकल्पों में सहायक प्रजनन तकनीकें हो सकती हैं। उदाहरणों में इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) और इंट्रासाइटोप्लाज्मिक स्पर्म इंजेक्शन (आईसीएसआई) शामिल हैं। ये प्रक्रियाएं अंडे को निषेचित करने के विभिन्न तरीकों का उपयोग करके आपको गर्भवती होने में मदद करती हैं।

डेचेर्नी का समूह अंडे के संरक्षण (egg preservation) का अध्ययन करता है, जिसमें अंडों का फ्रीजिंग (freezing eggs) शामिल हैं। यह कुछ महिलाओं को स्वास्थ्य की स्थिति, जो प्रजनन क्षमता को कम कर सकती हैं का सामना करने में मदद कर सकता है। वह नोट करते हैं, “लेकिन यह महंगा है।”

स्वस्थ रहना

बांझपन ही एकमात्र समस्या नहीं है जिसका सामना उम्रदराज जोड़े करते हैं। डेचेर्नी कहते हैं, “क्या एक महिला को उम्र बढ़ने पर बच्चा हो सकता है, यह भी उसके स्वास्थ्य पर निर्भर करता है।”

वह कहते हैं, “मधुमेह या उच्च रक्तचाप होने की आशंका – जो गर्भावस्था को प्रभावित करने वाली दो प्रमुख बीमारियां हैं, अधिक हैं।”

मोटापा, हृदय की स्थिति और कैंसर भी एक महिला के गर्भवती होने या गर्भवती रहने की क्षमता में बाधा कर सकते हैं। वे पुरुषों की प्रजनन क्षमता को भी कम कर सकते हैं।

गर्भवती होने से पहले अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता (योग्य चिकित्सक) से बात करें। वे आपको सुरक्षित गर्भावस्था की योजना बनाने में मदद कर सकते हैं।

गर्भवती होने पर अधिक उम्र होने से आपको गर्भवती होने या जन्म देने से स्वास्थ्य समस्याओं का अनुभव होने की अधिक संभावना होती है। इनमें हृदय रोग, संक्रमण, रक्तस्राव, उच्च रक्तचाप और रक्त के थक्के शामिल हैं।

उच्च रक्तचाप गर्भवती महिलाओं को प्रीक्लेम्पसिया के लिए उच्च जोखिम बनाता है। प्रीक्लेम्पसिया एक गंभीर चिकित्सा स्थिति है जिसके कारण आपको जल्दी प्रसव पीड़ा हो सकती है। इससे मौत भी हो सकती है।

आपकी उम्र चाहे जो भी हो, आपके पास स्वस्थ जीवनशैली जीकर गर्भवती होने और गर्भवती रहने का एक बेहतर मौका है।

स्वस्थ गर्भावस्था के लिए क्या करें

आपकी उम्र कोई भी हो, कुछ चीजें आपको स्वस्थ गर्भावस्था में मदद कर सकती हैं, जैसे :

अपने पोषण, दवाओं और किसी भी स्वास्थ्य स्थिति के बारे में अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से बात करें। नियमित रूप से प्रसव पूर्व जांच करवाएं।

फोलिक एसिड की खुराक लें। रोजाना कम से कम 400 माइक्रोग्राम फोलिक एसिड लें।

शराब, तंबाकू, या मारिजुआना जैसे नशीली दवाओं का प्रयोग न करें।

कई कार्यस्थलों में उपयोग किए जाने वाले सॉल्वैंट्स नामक जहरीले पदार्थों, जैसे सीसा, विकिरण, या रसायनों के संपर्क में आने से बचें।

स्वस्थ आहार का पालन करें और स्वस्थ वजन बनाए रखें।

कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों से बचें जो गर्भावस्था के दौरान खतरनाक हो सकते हैं, जैसे कच्ची मछली, अधपका मांस, डेली मीट, और बिना पाश्चुरीकृत चीज।

पर्याप्त शारीरिक गतिविधि करें। अपने डॉक्टर से बात करें कि आपकी गर्भावस्था के लिए क्या सुरक्षित है।

कैफीन का सेवन सीमित करें।

नियमित रूप से डेंटल चेकअप करवाएं।

आपकी गर्भावस्था को प्रभावित करने वाले संक्रमणों को रोकने के लिए कदम उठाएं।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner