Home » Latest » मेरे मन की हार में ही है तुम्हारी जीत लिख दूं।।
Hema Pandey

मेरे मन की हार में ही है तुम्हारी जीत लिख दूं।।

कह रहा है मन चलो आज कोई गीत लिख दूं।

मेरे मन की हार में ही है तुम्हारी जीत लिख दूं।।

 

यह मुझे स्वीकार है तुम बस गये मेरी नजर में,

बनके हमराही मिले हो जिन्दगी के इक सफर में,

कृष्ण तुम हो मैं निभाऊं राधिका सी प्रीत लिख दूं

मेरे मन की हार में ही है तुम्हारी जीत लिख दूं।

 

भावनाएं एक सरिता सी कुलाचें भर रही हैं

और अन्तस में उमंगे बनके झरना झर रही हैं

मन विकल कहता है तुमको आज मन का मीत लिख दूं

कह रहा है मन चलो आज कोई गीत लिख दूं

 

समय का पहिया निरन्तर घूमता ही जा रहा है

मन हुआ उनमुक्त मधुकर झूमता ही जा रहा है

पुष्प अभिलाषी तपस में चाहता है सीत लिख दूं

मेरे मन की हार में ही है तुम्हारी जीत लिख दूं।

 

हेमा पाण्डेय

लखनऊ

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

vote

विधानसभा चुनाव से पहले वोट बैंक की खेती! | PM Modi in Dehradun

चुनाव से पहले वोटबैंक की खेती ! यूपी विधानसभा चुनाव 2022. पीएम मोदी देहरादून में. …