कोर्टरूम में हाईकोर्ट के न्यायाधीश ने चलाया कपिल मिश्रा का वीडियो, पुलिस को लताड़ा

High court judge played video of Kapil Mishra in courtroom, lambasted police

न्यायाधीश मुरलीधर ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा, “वहां की परिस्थिति बेहद अप्रिय है।”

नई दिल्ली 26 फरवरी 2020.देश की राजधानी के उत्तरी-पूर्वी क्षेत्रों में हिंसा भड़काने वाले राजनीतिक नेताओं की गिरफ्तारी और पीड़ितों के लिए मुआवजा और स्वतंत्र जांच की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई के दौरान दिल्ली हाईकोर्ट में बुधवार को हाई वोल्टेज ड्रामा हुआ। न्यायाधीश मुरलीधर ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा, “वहां की परिस्थिति बेहद अप्रिय है।”

इस दौरान कोर्टरूम में न्यायाधीश द्वारा भाजपा नेता कपिल मिश्रा की कथित भड़काऊ बयान वाले वीडियो को भी चलाया गया। इस वीडियो को तब चलाया गया, जब पुलिस अधिकारी ने कहा कि उसने वीडियो नहीं देखा है।

न्यायाधीश मुरलीधर ने कहा, “सब इसे देखिए।”

कोर्ट में कपिल मिश्रा का भाषण सुनने के बाद पुलिस अधिकारी ने वीडियो में मौजूद सब-इंस्पेक्टर की पहचान की।

मेहता ने समय मांगते हुए कोर्ट से इस मामले पर गुरुवार को सुनवाई करने की मांग की।

 

कोर्ट ने बुधवार को सुबह याचिका पर सुनवाई के लिए हामी भरी थी और दिल्ली के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को भी सुनवाई के दौरान उपस्थित रहने के लिए कहा था।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations