Home » Latest » कोर्टरूम में हाईकोर्ट के न्यायाधीश ने चलाया कपिल मिश्रा का वीडियो, पुलिस को लताड़ा
Delhi High Court

कोर्टरूम में हाईकोर्ट के न्यायाधीश ने चलाया कपिल मिश्रा का वीडियो, पुलिस को लताड़ा

High court judge played video of Kapil Mishra in courtroom, lambasted police

न्यायाधीश मुरलीधर ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा, “वहां की परिस्थिति बेहद अप्रिय है।”

नई दिल्ली 26 फरवरी 2020.देश की राजधानी के उत्तरी-पूर्वी क्षेत्रों में हिंसा भड़काने वाले राजनीतिक नेताओं की गिरफ्तारी और पीड़ितों के लिए मुआवजा और स्वतंत्र जांच की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई के दौरान दिल्ली हाईकोर्ट में बुधवार को हाई वोल्टेज ड्रामा हुआ। न्यायाधीश मुरलीधर ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा, “वहां की परिस्थिति बेहद अप्रिय है।”

इस दौरान कोर्टरूम में न्यायाधीश द्वारा भाजपा नेता कपिल मिश्रा की कथित भड़काऊ बयान वाले वीडियो को भी चलाया गया। इस वीडियो को तब चलाया गया, जब पुलिस अधिकारी ने कहा कि उसने वीडियो नहीं देखा है।

न्यायाधीश मुरलीधर ने कहा, “सब इसे देखिए।”

कोर्ट में कपिल मिश्रा का भाषण सुनने के बाद पुलिस अधिकारी ने वीडियो में मौजूद सब-इंस्पेक्टर की पहचान की।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

मेहता ने समय मांगते हुए कोर्ट से इस मामले पर गुरुवार को सुनवाई करने की मांग की।

 

कोर्ट ने बुधवार को सुबह याचिका पर सुनवाई के लिए हामी भरी थी और दिल्ली के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को भी सुनवाई के दौरान उपस्थित रहने के लिए कहा था।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Arun Maheshwari - अरुण माहेश्वरी, लेखक सुप्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक, सामाजिक-आर्थिक विषयों के टिप्पणीकार एवं पत्रकार हैं। छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी राजनीति और साहित्य-आन्दोलन से जुड़ाव और सी.पी.आई.(एम.) के मुखपत्र ‘स्वाधीनता’ से सम्बद्ध। साहित्यिक पत्रिका ‘कलम’ का सम्पादन। जनवादी लेखक संघ के केन्द्रीय सचिव एवं पश्चिम बंगाल के राज्य सचिव। वह हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

अवसाद और मनोविश्लेषण की सैद्धांतिकता

अवसाद और मनोविश्लेषण की सैद्धांतिकता (Theoreticity of Psychoanalysis or Structure of ideology of psychoanalysis and …