Home » Latest » निमोनिया : पांच साल से कम उम्र के बच्चों का सबसे बड़ा हत्यारा
health news

निमोनिया : पांच साल से कम उम्र के बच्चों का सबसे बड़ा हत्यारा

Childhood Pneumonia – is the number one Killer for under five deaths globally as well as in India

नई दिल्ली, 11 नवंबर 2021: बाल अधिकार संगठन – सेव द चिल्ड्रेन, इंडिया, (Save the Children, India) ने निमोनिया की वजह से होने वाली बच्चों की मौतों (child deaths due to pneumonia) की ओर ध्यान दिलाते हुए कहा है कि, निमोनिया पांच साल से कम उम्र के बच्चों का सबसे बड़ा हत्यारा है। किसी भी दूसरे संक्रामक रोग की तुलना में निमोनिया से दुनिया भर में पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मौत सबसे ज्यादा हो रही है। पांच साल से कम उम्र के बच्चों में होने वाली मौतों में से 14 फीसदी बच्चों की मौत निमोनिया के कारण होती है।

The situation has worsened due to COVID-19

एक विज्ञप्ति में सेव द चिल्ड्रेन ने कहा है कि COVID-19 की वजह से हालात और ज्यादा खराब हो गए हैं। 2020 में बच्चों की टीकाकरण सेवाओं में बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ा था, क्योंकि COVID-19 महामारी के कारण स्वास्थ्य सेवाओं और टीकाकरण सेवाओं तक पहुंच कम हो गई थी। लॉकडाउन, सार्वजनिक परिवहन को बंद होना और बड़े पैमाने पर वैक्सीन को लेकर गलत सूचनाओं ने भी इन जीवन रक्षक सेवाओं को बाधित किया।

महामारी के चलते आरएमएनसीएच सेवाएं बाधित हुईं (RMNCH services disrupted due to pandemic)

सेव द चिल्ड्रेन ने कहा है कि “महामारी के परिणामस्वरूप नियमित टीकाकरण सहित आवश्यक आरएमएनसीएच (प्रजनन मातृ नवजात शिशु और किशोर स्वास्थ्य) सेवाएं बाधित हुईं। बचपन के टीकाकरण कवरेज में कमी के साथ-साथ चिकित्सा और ऑक्सीजन की मांग में बढ़ोतरी ने बचपन के निमोनिया के खिलाफ लड़ाई (The fight against childhood pneumonia) में हुई प्रगति को हिला दिया है। निमोनिया पांच साल से कम उम्र के बच्चों में मौत की सबसे बड़ी वजह है।

भारत में नियमित टीकाकरण की स्थिति (Status of routine immunization in India)

भारत में नियमित टीकाकरण कवरेज में गिरावट आई है जिसके कारण डीपीटी, हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी (Haemophilus influenzae type b) और पीसीवी कवरेज में भी गिरावट आई। COVID महामारी से पहले DPT और HIB कवरेज 91% तक था और 6 राज्यों के चयनित जिलों में PCV कवरेज 21% था, जहाँ इसे 2021 से पहले पेश किया गया था। इन जीवन रक्षक टीकों के कवरेज में गिरावट COVID19 प्रतिबंधों के कारण थी। –

सेव द चिल्ड्रन, इंडिया के सीनियर कंसल्टेंट – हेल्थ डॉ. विनोद कुमार आनंद ने कहा कि

“भारत में, पीसीवी को चरणबद्ध तरीके से जून 2017 से हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, बिहार, मध्य प्रदेश और हरियाणा (स्वयं के राज्य के बजट) के चुनिंदा राज्यों / जिलों शुरू किया गया था। हाल ही में, भारत सरकार ने अक्टूबर, 2021 में राष्ट्रीय नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में पीसीवी वैक्सीन के राष्ट्रव्यापी विस्तार की घोषणा की। यह प्रतिबद्धता सभी बच्चों को टीका प्राप्त करवाना सुनिश्चित करने की दिशा में एक बड़ा कदम है और ये स्वागत योग्य है”।

हालांकि, टीके की दरों में गिरावट के अलावा, पिछले 12 महीनों में सभी निम्न और मध्यम आय वाले देशों में COVID-19 रोगियों के इलाज के लिए ऑक्सीजन की मांग तीन गुना से अधिक बढ़ गई, जिससे कई देशों में इसकी कमी हो गई।

Medical oxygen is essential for treating children with severe pneumonia.

गंभीर निमोनिया से पीड़ित बच्चों के इलाज के लिए मेडिकल ऑक्सीजन बेहद ज़रूरी हैकोरोना महामारी से पहले भी, गरीब देशों में हर साल गंभीर निमोनिया से पीड़ित 42 लाख  बच्चों को जीवित रहने के लिए चिकित्सा ऑक्सीजन की ज़रूरत पड़ती थी।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि निमोनिया COVID-19 के साथ-साथ अन्य बीमारियों की एक संभावित जटिलता है और बच्चों में मृत्यु का प्रमुख कारण बना हुआ है, जिससे प्रति वर्ष लगभग तीन चौथाई मौतें होती हैं। छोटे बच्चों को विशेष रूप से गंभीर निमोनिया और मृत्यु की आशंका का सबसे ज्यादा जोखिम होता है। निमोनिया से जुड़ी 80% से अधिक मौतें जीवन के पहले 2 वर्षों के दौरान बच्चों में होती हैं।

Pneumonia is a symbol of inequality

सेव द चिल्ड्रन, इंडिया के निदेशक कैंपेन एंड कम्युनिकेशन, मधुरा कापड़ी ने कहा कि

“निमोनिया असमानता का प्रतीक है और उसे कायम रखता है। हर दिन, दुनिया भर में लगभग दो हजार बच्चे या पांच साल से कम उम्र के 300 से अधिक बच्चे इस रोके जा सकने वाली और इलाज योग्य बीमारी से सिर्फ इसलिए मर जाते हैं क्योंकि उनके पास टीके, समय पर इलाज और चिकित्सा ऑक्सीजन जैसे आवश्यक उपचार तक पहुंच नहीं है।”

निमोनिया के विषय में परेशान करने वाली बात ये है कि इसकी वजह से होने वाली लगभग सभी मौतों को रोका जा सकता है। प्रभावी टीके ज्यादातर मामलों को टाल सकते हैं, शुरुआती और सही इलाज, साधारण एंटीबायोटिक्स से बचपन के निमोनिया का इलाज (Treating childhood pneumonia with antibiotics) कर सकते हैं। अधिक गंभीर मामलों को चिकित्सा ऑक्सीजन के साथ इलाज किया जाना चाहिए। जब कोरोना महामारी खत्म हो जाएगी, निमोनिया तब भी हमारे साथ रहेगा। हमें उसी तत्परता और दृढ़ संकल्प का उपयोग करना चाहिए जिसके साथ भारत सहित दुनिया ने निमोनिया से लड़ने के लिए COVID-19 से लड़ाई लड़ी है, और इस रोके जाने योग्य और उपचार योग्य बीमारी से लोगों की जान बचाई है।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …

Leave a Reply