कांग्रेस की भारत बचाओ रैली में यूपी से होगी ऐतिहासिक भागीदारी

Historical participation from UP in Congress’s Bharat Bachao rally

40 हजार से अधिक कार्यकर्ता पहुंच रहे हैं रामलीला मैदान

नई दिल्ली/ लखनऊ 13 दिसंबर 2019.. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (All india congress committee) के ओर से आर्थिक मंदी, किसान विरोधी नीतियों, महिला हिंसा, बेरोजगारी और संविधान पर हमले (Attack on constitution) के खिलाफ कल 14 दिसम्बर को देश के कोने कोने से लाखों कार्यकर्ता रामलीला मैदान पहुंच रहे हैं।

इस रैली में उत्तर प्रदेश से 40 हज़ार से अधिक कार्यकर्ता दिल्ली पहुंच रहे हैं। इस रैली में उत्तर प्रदेश की ऐतिहासिक भागीदारी होने जा रही है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस द्वारा हर विधानसभा से लगभग औसतन 200 लोगों को रैली में ले जाने की रणनीति बनी थी। उत्तर प्रदेश के कोने कोने से ट्रेनों, बसों और गाड़ियों के काफिले से कार्यकर्ताओं का हुजूम दिल्ली में दाखिल हो रहा है।

महीना भर से चल रही थी भारत बचाओ रैली की तैयारी

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा इस रैली को सफल बनाने के लिए लगभग एक महीने से जनअभियान चलाया जा रहा था। जिसके तहत कांग्रेस के नेता लगातार जनसंपर्क कर रहे थे। आर्थिक मंदी, किसानों की समस्या, बेरोजगारी और संविधान पर बढ़ते हमले के खिलाफ विधानसभा स्तर पर नुक्कड़ सभाओं के जरिये आम लोगों तक भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों को लेकर कांग्रेस के नेता और पदाधिकारी जुटे थे।

यूपी की है ललकार बदलेंगे सरकार, टोपी पहने दिखेंगे यूपी के कांग्रेसी

कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी श्रीमती प्रियxका गांधी इस रैली की तैयारियों और बैठकों में लगातार सक्रिय थीं।

उत्तर प्रदेश में इस रैली को लेकर हर पदाधिकारी की जिम्मेदारी तय थी। रैली को सफल बनाने के लिए मंडल प्रभारी बनाये गए थे। पार्टी के पुराने नेता अपने समर्थकों के साथ दिल्ली पहुंच रहे हैं।

रैली में यूपी के कार्यकर्ता “यूपी की है ललकार बदलेंगे सरकार” नारे लिखी टोपी पहने दिखेंगे। रैली को लेकर उत्तर प्रदेश के कार्यकर्ताओं में बहुत उत्साह है। दिल्ली में उत्तर प्रदेश के कार्यकर्ताओं के लिये आठ चेक पॉइंट बनाये गए हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations