Home » Latest » जलवायु परिवर्तन भारत की कृषि को कैसे प्रभावित कर रहा है..?
Climate Change

जलवायु परिवर्तन भारत की कृषि को कैसे प्रभावित कर रहा है..?

क्लाइमेट ट्रेंड्स की एक ब्रीफिंग | A briefing of climate trends

कोविड-19 रिकवरी, क्लाइमेट-प्रूफ भारतीय खेती का मौका है

How climate change is impacting Indian agriculture and socio-economic unrest

COVID-19 Recovery is Climate-proof Indian Farming Opportunity

नई दिल्ली, 09 दिसंबर 2020. भारतीय किसान पहले से ही जलवायु परिवर्तन के प्रभावों की चपेट में हैं। औसत वार्षिक तापमान बढ़ने से फसल की पैदावार/ उपज में गिरावट आई है। बेमौसम बारिश और भारी बाढ़ से फसल क्षति के क्षेत्र में वृद्धि हो रही है। यह जानकारी आज क्लाइमेट ट्रेंड्स की एक ब्रीफिंग “जलवायु परिवर्तन भारत की कृषि को कैसे प्रभावित कर रहा है..?” में सामने आई।

Climate change is definitely the biggest threat to India’s agriculture in the future  

ब्रीफिंग में कहा गया है कि भविष्य में जलवायु परिवर्तन निश्चित रूप से भारत के कृषि के लिए सबसे बड़ा खतरा है। इस बात के बढ़ते सबूत हैं कि इन परिवर्तनों से भूमि उत्पादकता में कमी आएगी और सभी भारतीय प्रमुख अनाज फसलों की उपज के साथ-साथ उपज परिवर्तनशीलता में भी वृद्धि होगी। प्रमुख उत्पादित फसलों में, गेहूं और चावल सबसे कमज़ोर हैं। बढ़ता तापमान भारतीय कृषि के लिए सबसे बड़ा जोखिम है। सबसे बुरी स्थिति में, भारत अपनी आबादी को खाना खिलाने के लिए भोजन का आयातक बन सकता है।

ब्रीफिंग में यह भी बताया गया है कि जलवायु-प्रेरित फसल की विफलताएँ आय में कमी ला रहीं हैं और भविष्य में, वार्षिक कृषि आय के नुकसान का अनुमान 15% -18% के बीच है, जो असिंचित क्षेत्रों के लिए 20% -25% है। किसानों की आजीविका पर आय में गिरावट का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है, पहले से ही किसानों में ऋणग्रस्तता, बेरोजगारी, मिटिगेशन, भूख और आत्महत्याओं की वृद्धि हुई है।

● कोविड-19 ने भारत की कृषि की कमजोरियों को उजागर किया क्योंकि एक से संकट ने सभी आकारों के खेतों को चोट पहुंचाई। लेकिन इस सेक्टर को “प्रकृति-आधारित रिकवरी” की ओर अग्रसर करने का एक अवसर है। जलवायु-स्मार्ट कृषि उपज और आय बढ़ा सकता है और उत्सर्जन को कम कर सकता है। प्रकृति में निवेश महान आर्थिक लाभ और व्यापार के अवसरों को उजागर कर सकता है। फसल बीमा और ऋण जैसे संरचनात्मक सुधार, पूंजी तक पहुंच और पैदावार को बढ़ावा दे सकते हैं। स्थानीय और छोटी आपूर्ति श्रृंखलाओं को बढ़ाने से लचीलापन बढ़ सकता है और किसानों को बाजारों में जोड़ा जा सकता है, जो लॉकडाउन के दौरान प्रमुख समस्याओं में से एक रही।

ये यह भी बताता है कि इन परिवर्तनों से किसानों द्वारा सामना की जाने वाली सामाजिक-आर्थिक चुनौतियों का सामना कैसे होगा।

पेपर से कुछ मुख्य हाइलाइट्स :

– इस बात के सबूत बढ़ते जा रहे हैं कि औसत अधिकतम तापमान, औसत न्यूनतम तापमान, उतार-चढ़ाव और अत्यधिक वर्षा में परिवर्तन से भूमि उत्पादकता में कमी और अधिकांश फसलों की उपज में कमी, साथ ही उपज परिवर्तनशीलता में वृद्धि हुए और होने वाले हैं।

– अनुमानों में तब्दीली के साथ – गेहूं, चावल, मक्का, चारा, सरसो, सोयाबीन और अन्य गैर-खाद्य अनाज फसलों की उत्पादकता कम होने की संभावना है।

– जलवायु-प्रेरित फसल विफलताएँ आय में कमी कर रही हैं और भविष्य में वार्षिक कृषि आय के नुकसान का अनुमान 15% -18% के बीच है, जो असिंचित क्षेत्रों के लिए 20% -25% है। भारत में कुल श्रमिकों का 55% या 263 मिलियन कृषि श्रमिक प्रतिनिधित्व करतें हैं।

भारत सरकार के अनुसार, मॉडल्स बताते हैं कि 21-वीं शताब्दी के अंत तक औसत तापमान 4.4 ° C बढ़ सकता है, जिससे हीटवेव बढ़ेंगें (3-4 बार) और सूखा भी (2100 तक 150% तक)। औसत, वर्षा की चरम और अंतर-वार्षिक परिवर्तनशीलता बढ़ जाएगी, और अनुमान है कि मानसून का मौसम अधिक तीव्र होगा और बड़े क्षेत्रों को प्रभावित करेगा। 2100 तक समुद्र का स्तर 20-30 सेमी बढ़ने की उम्मीद है, विशेष रूप से उत्तर हिंद महासागर में। ये सभी बदलाव कृषि के महत्वपूर्ण क्षेत्रों, विशेष रूप से तटीय दक्षिण भारत, मध्य महाराष्ट्र, इंडो-गेनजेटिक मैदानों और पश्चिमी घाटों, को प्रभावित करेंगे।

– कृषि संकट के कारण 2011-2016 के बीच औसतन नौ मिलियन श्रमिक प्रवास कर गए। किसान बेहतर परिस्थितियों के लिए भी विरोध कर रहे हैं; 2014-16 के बीच विरोध प्रदर्शन आठ गुना बढ़ गए हैं।

– फसल बीमा योजनाओं से निजी बीमाकर्ता बाहर हो रहे हैं, इसके लिए जलवायु परिवर्तन को आंशिक रूप से जिम्मेदार ठहराया गया है। यह घटती उत्पादकता लागत को बढ़ाती है और किसानों के लिए अपने ऋणों को चुकाना कठिन बना देती है, विशेषकर बीमा तक पहुँच के बिना। परिणामस्वरूप, भारत की जनगणना के अनुसार, शहरी क्षेत्रों में औसत मृत्यु दर (2014-16 के बीच 5.1%) की तुलना में ग्रामीण क्षेत्रों में औसत मृत्यु दर (2014-16 के बीच 7.1% औसत क्रूड डेथ रेट) अधिक है, और हालांकि आत्महत्याएं इसका एक छोटा सा हिस्सा हैं, वे बहुत चिंता का कारण हैं।

– एक हालिया अध्ययन में पाया गया कि वार्मिंग पूरे भारत में सालाना 4,000 से अधिक अतिरिक्त मौतों के लिए जिम्मेदार है, जो वार्षिक आत्महत्याओं के ∼3% के लिए जिम्मेदार है। 1980 के बाद से, वार्मिंग और आगामी फसल क्षति को 59,300 किसान आत्महत्याओं के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

– जैसे-जैसे किसानों को अधिक उत्पादन घाटा होगा, सरकारी खर्चों में वृद्धि होगी। यह अनुमान लगाया गया है कि कृषि पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव से भारत के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 1.5% की हानि होगी, जबकि RBI भविष्यवाणी करता है कि GDP का लगभग 3% उन्हें काउंटर करने पर खर्च किया जाएगा।

– अंतर्राष्ट्रीय स्वीकरन बढ़ रहा है कि कोविड दुनिया को अधिक प्रकृति आधारित वसूली को शामिल करने की आवश्यकता है, विशेष रूप से कृषि और कृषि वानिकी क्षेत्रों के लिए। खाद्य और भूमि उपयोग गठबंधन की एक हालिया रिपोर्ट में पाया गया कि हम जिस तरह से खेती करते हैं और भोजन का उत्पादन करते हैं, वह 2030 तक वैश्विक रूप से नए व्यापार अवसरों में एक वर्ष में USD 4.5 ट्रिलियन जारी कर सकता है। विश्व आर्थिक मंच (वर्ल्ड इकोनॉमिक फ़ोरम) की न्यू नेचर इकोनॉमी (नई प्रकृति अर्थव्यवस्था) रिपोर्ट में पाया गया कि 2030 तक खाद्य, भूमि और महासागर क्षेत्र में निवेश से वैश्विक स्तर पर 191 मिलियन नई नौकरियां पैदा हो सकती हैं।

क्लाइमेट ट्रेंड्स की निदेशिका आरती खोसला की प्रतिक्रिया –

“What needs to be understood with regards to the on-going farm protests is that it is not just a social and political issue, it is as much an environmental one and the interlinkages run deep. Climate change is one of the leading risk factors for agriculture in India and Indian farmers are consistently being hit by the impacts of unseasonal rainfall, floods, droughts, heatwaves, water scarcity for irrigation and so on. These factors are not only threatening the food security of the country but also decreasing farm incomes, putting livelihoods at risk and increasing suicide rates and migration from agrarian regions. On the other hand, the increasing variability of seasonal produce is making institutional finance like crop insurance and subsidies for short term credit more constrained. As the sector shoots higher in the risk category, more and more private players will withdraw finance leaving the government to bear the burden of providing income and food security. Farmer protests have increased eight times in the last few years and these are proof that it will be extremely short sighted to not understand and address the deeper problems afflicting India’s agriculture and bringing our farmers on the streets.”

Aarti Khosla, Director, Climate Trends

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

yogi adityanath

उत्तर प्रदेश में कोरोना की स्थिति भयावह, स्थिति कंट्रोल करने में सरकार फेल

सर्वदलीय बैठक में कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष सुहेल अख्तर अंसारी ने दुर्व्यवस्था पर उठाए सवाल सरकार …

Leave a Reply