Home » समाचार » देश » Corona virus In India » फ्लू : संक्रमित होने से कैसे बचें
Flu

फ्लू : संक्रमित होने से कैसे बचें

How to avoid getting infected by the flu

With the change in the weather, the immunity of people starts weakening.

भले ही आप बदलते मौसम को जिम्मेदार मानें या फिर हवा में बढ़ती नमी धूल और प्रदूषण को। डॉक्टरों के अनुसार इन दिनों लोग तेजी से जुकाम, गले में दर्द और बुखार (Cold, throat pain and fever) जैसी समस्याओं से पीड़ित हो रहे हैं। मौसम में आये बदलाव के साथ लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर पड़ने लगती है, ऐसे मे वातावरण में फैले जीवाणु के कारण आसानी से लोग जुखाम, खांसी, बुखार एवं श्वास सम्बन्धी समस्याओं से पीडि़त हो जाते हैं।

क्या होते हैं फ्लू शॉट्स | What are flu shots

आपको यह तो याद होगा ही कि स्वाइन फ्लू ने किस तरह लोगों को अपनी चपेट में लिया था। ऐसे में अगर सही समय पर फ्लू शॉट्स लगवा लिए जाते तो स्वाइन फ्लू से संक्रमित होने के खतरे से काफी हद तक बचा जा सकता था। आइये जानते हैं विस्तार में क्या होते हैं यह फ्लू शॉट्स

कब है फ्लू शॉट लगाने का सही समय | When is the right time to take a flu shot

हर साल वायरस के स्ट्रेन बदलते हैं और उन बदले हुए वायरस के स्ट्रेन (Virus strains) से बचने के लिए नयी फ्लू शॉट को विकसित किया जाता है जो सितम्बर तक बन जाती है और अक्टूबर के महीने में उपलब्ध हो जाती है। हर साल मुख्यत: दो बार, मार्च और अक्टूबर के महीने के आसपास मौसम में बदलाव देखा जाता है इसीलिए फ्लू शॉट लगाने का सही समय अक्टूबर या मार्च माना जाता है।

कौन लगवा सकते हैं फ्लू शॉट्स | Who can get flu shots

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार इन्फ्लूएंजा वैक्सीन (Influenza vaccine – फ्लू शॉट्स ) फ्लू की रोकथाम में कारगर उपाय हैं जो छह महीने को बच्चा हो या 60 साल का बुजुर्ग, सभी आयु वर्ग के लोग लगवा सकते हैं।

फ्लू शॉट क्या है?

फ्लू शॉट एक प्रकार का टीका है जो तीन प्रकार के इन्फ्लुएंजा वायरस से हमें बचाव प्रदान करता हैं।

कितने प्रकार के होते हैं फ्लू शॉट | What are the types of flu shots

फ्लू शॉट तीन प्रकार के होते हैं

रेगुलर फ्लू शॉट इसे 6 महीने या उससे अधिक उम्र के बच्चों, स्वस्थ लोगों, गर्भवती महिलाओं के लिए उपयोगी माना गया है।

हाई डोज वैक्सीन यह 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद है।

इंट्राडरमल वैक्सीन यह 18 से 64 वर्ष की आयु वालों के लिए उपयोगी है।

जरूर लगवायें यह फ्लू शॉट्स

कुछ ऐसी बीमारियां या स्थिति होती हैं जिसमें शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है जैसे की डायबिटीज, अस्थमा, हृदय रोग, निमोनिया, किडनी सम्बन्धी बीमारी, गर्भधारण के दौरान आदि। ऐसे में उन लोगों को जरूर ये फ्लू शॉट्स लगवाने चाहिए।

सावधानी : फ्लू वैक्सीन न लें अगर

6 माह से कम उम्र का बच्चा है

टीका लेने के दौरान जुखाम या बुखार हो

अगर आपको कभी जी बी सिंड्रोम बीमारी हुई है

अगर आपको अंडे से एलर्जी हो

फ्लू से बचने के उपाय | Ways to avoid the flu

फ्लू से बचने के लिए वैसे तो इंफ्लूएंजा वैक्सीन लेना ही बेहतरीन उपाय है, लेकिन कुछ आवश्यक बातों को ध्यान में रखने पर भी आप फ्लू से बचे रह सकते हैं।

भीड़ भाड़ वाले इलाको में जाने से बचें।

जब भी आप खांसते या छीकते हैं तो अपनी नाक और मुंह को किसी कपड़े की सहायता से ढक लें।

अपने हाथों को साबुन और पानी की सहायता से या सेनीटाइजर से अच्छी तरह साफ करें।

अपने आंख, नाक, मुंह को बार-बार छूने से बचें। इस तरह से कीटाणु फैलते हैं।

बीमार लोगों के कपड़ों के संपर्क में आने से बचें।

यदि आप फ्लू के कारण बीमार हैं तो करीब 24 घंटे तक घर से बाहर न निकलें।

संतुलित भोजन, व्यायाम और सही नींद भी फ्लू की रोकथाम (Flu prevention) में महत्वपूर्ण भमिका अदा करते हैं।

डॉ सुनील गुप्ता

(विभागाध्यक्ष एवं वरिष्ठ सलाहकार, शिशु रोग विशेषज्ञ सरोज सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, दिल्ली)

(मूलतः देशबन्धु में 2015-10-26 को प्रकाशित खबर का संपादित रूप)

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

shahnawaz alam

अदालतों का राजनीतिक दुरुपयोग लोकतंत्र को कमज़ोर कर रहा है

Political abuse of courts is undermining democracy असलम भूरा केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.