Home » समाचार » तकनीक व विज्ञान » आईईईएफए रिपोर्ट : भारत के थर्मल पावर सेक्टर में फंसे परिसंपत्ति जोखिम को कम करके आंका गया
National News

आईईईएफए रिपोर्ट : भारत के थर्मल पावर सेक्टर में फंसे परिसंपत्ति जोखिम को कम करके आंका गया

IEEFA Report: India’s stranded asset risk in thermal power sector underestimated

India should cancel many of the worst thermal power plant proposals

भारत को सबसे खराब थर्मल पावर प्लांट के प्रस्तावों को रद्द करना चाहिए

नई दिल्ली, 30 दिसंबर 2019. इंस्टीट्यूट फॉर एनर्जी इकोनॉमिक्स एंड फाइनेंशियल एनालिसिस (IEEFA) द्वारा हाल ही में जारी एक नई रिपोर्ट में पाया गया है कि भारत में कई और थर्मल पावर स्टेशनों को संभावित रूप से फंसे हुए संपत्तियों के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।

आईईईएफए की रिपोर्ट में कहा गया है कि हो सकता है कि वर्ष 2018 की ऊर्जा पर भारत की संसदीय स्थायी समिति ने भारत के थर्मल पावर सेक्टर में गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों की सही संख्या को कम करके आंका हो।

आईईईएफए ने भारत के थर्मल व कोयला आधारित विद्युत सेक्टर में 12 गैर-निष्पादित या फंसी हुई संपत्ति की समीक्षा की। इनमें से कुछ की पहचान सरकार ने पहले ही कर ली थी, जबकि अन्य अन्य निवेशकों के लिए एक व्यवहार्य रिटर्न देने के लिए पर्याप्त प्रतिस्पर्धी मूल्य पर काम करने में असमर्थ हैं। इसके अलावा, ऐसी परियोजनाएँ भी हैं जो एक दशक से भी अधिक समय से ड्राइंग बोर्ड पर हैं और अधिकांश का निर्माण कभी भी नहीं हो पाएगा।

रिपोर्ट के प्रमुख लेखक और आईईईएफए के ऊर्जा वित्त अध्ययन के निदेशक टिम बकले का कहना है कि भारत के थर्मल क्षेत्र में फंसी संपत्ति एनपीए पर स्थायी समिति द्वारा उजागर की गई 34 परियोजनाओं तक ही सीमित नहीं है, बल्कि मामला कहीं अधिक गंभीर है।

बकले कहते हैं,

“जिन 12 गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों की हमने समीक्षा की, उनमें से प्रत्येक के निवेश प्रस्तावों के पीछे संदिग्ध अर्थशास्त्र था, विशेष रूप से कम लागत वाले अक्षय विकल्पों को एक तिहाई समय में और 30% या भारतीय बिजली उपभोक्ताओं को कम लागत पर बनाया जा सकता है।”

वह कहते हैं कि “भारत को सबसे खराब थर्मल पावर प्लांट प्रस्तावों में से कई को रद्द करना चाहिए।”

12 बिजली संयंत्रों की सूची की समीक्षा:
  • PPGCL का प्रयागराज थर्मल पावर प्लांट
  • महाजेनको के कोराडी थर्मल पावर स्टेशन
  • लैंको का अमरकंटक थर्मल पावर प्लांट
  • जीवीके गैस और कोयला आधारित बिजली संयंत्र
  • KWPCL का कोरबा वेस्ट थर्मल पावर प्लांट
  • टाटा पावर का मुंद्रा पावर प्लांट
  • सीटीएनपीएल का चेयूर अल्ट्रा मेगा पावर प्लांट
  • अदानी का गोड्डा थर्मल पावर प्लांट
  • रतनइंडिया का नासिक सिनार थर्मल पावर प्लांट
  • टीएचडीसी का खुर्जा थर्मल पावर प्लांट
  • एसजेवीएन का बक्सर थर्मल पावर स्टेशन
  • पीसीकेएल का गुलबर्गा थर्मल पावर स्टेशन

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Shaheed Jagdev-Karpoori Sandesh Yatra

माफीवीर सावरकर के वारिस देश-भक्ति के दावे के साथ बेच रहे हैं देश

विशद कुमार – भागलपुर सामाजिक न्याय आंदोलन (बिहार) और बहुजन स्टूडेंट्स यूनियन (बिहार) के बैनर …

Leave a Reply