देश बचाना है तो अब देश को गैर-भाजपावाद के रास्ते पर चलाना होगा – अतुल कुमार अनजान

न जातिवाद, न धर्मवाद और न गैर-कांग्रेसवाद, देश को बचाना है तो अब गैर भाजपावाद के रास्ते पर देश को चलाना होगा।

If the country is to be saved, now the country will have to follow the path of non-BJPism – Atul Kumar Anjan

मोदी के दस वाक्यों में नौ वाक्य झूठ पर आधारित होते हैं -अतुल कुमार अनजान

बाराबंकी 26 दिसंबर 2020. न जातिवाद, न धर्मवाद और न गैर-कांग्रेसवाद, देश को बचाना है तो अब गैर भाजपावाद के रास्ते पर देश को चलाना होगा।

यह सलाह आल इण्डिया किसान सभा के राष्ट्रीय महासचिव व कम्युनिस्ट पाटी के राष्ट्रीय प्रवक्ता अतुल कुमार अंजान ने देवा रोड स्थित गाँधी भवन में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में अपने उद्बोधन में दी।

उन्होंने कहा देश इस वक्त संकटकालीन दौर से गुजर रहा है। देश का नौजवान व मजदूर किसान का भविष्य अंधकारमय है। देश के हर नागरिक को नई आजादी की लड़ाई लड़ने के लिए सामने आना होगा और किसानों को इस आन्दोलन को घर-घर पहुँचना होगा। खेत बचेगा तो किसान बचेगा और हिन्दुस्तान बचेगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर सीधे आक्रमण करते अतुल अंजान ने हुए का कि वे सत्ता में बने रहने के लिए देश की जनता को बराबर गुमराह कर रहे हैं, उनके दस वाक्यों में नौ वाक्य झूठ पर आधारित होते हैं और विडम्बना यह है कि देश की जनता अभी तक झूठ बर्दाश्त करती रही, अज्ञानी ज्ञान बाँट रहे हैं।

हिन्दी मासिक पत्रिका परिकल्पना के प्रधान सम्पादक और सुप्रसिद्ध ब्लॉगर रविन्द्र प्रभात ने कहा देश की संस्कृति और समरसता को छिन-भिन्न  कर सत्ता हथियाने वाली साम्राज्यवादियों के गुलामी की ओर ले जा रहे हैं।

रिहाई मंच के संयोजक एडवोकेट मो. शुऐब ने कहा कि दिल्ली के बॉर्डर पर धरना दे रहें किसानों की अकेले की लड़ाई नहीं है। मोदी जी देश के खाद्यान्न को अपने चहेते पूंजीपतियों के हवाले कर देना चाहते हैं। वह हरित क्रान्ति के सूरमाओं के परिश्रम की बलि चढ़ा देना चाहते हैं। अन्न दाताओं को हमें इस लड़ाई में पूर्ण समर्थन देना ही सच्चा राष्ट्रवाद है।

कम्युनिस्ट पार्टी की राज्य कौंसिल के सदस्य रणधीर सिंह सुमन ने अपने स्वागत उद्बोधन में कहा कि 26 दिसम्बर 1925 को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना कानपुर में मौलाना हसरत मोहानी ने मुकम्मल आजादी के नारे के साथ की थी। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी देश की एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसके वजूद के आने से रोकने के लिए देश भर में हजारों की संख्या में लोगों की गिरफ्तारियाँ की गयी थी। बावजूद इसके कम्युनिस्ट पार्टी ने अपने वसूलों से कभी समझौता नहीं किया और जन मुद्दों पर जमकर संघर्ष किया और आगे भी करते रहेंगे।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला सचिव एडवोकेट बृजमोहन वर्मा ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि देश आर्थिक गुलामी की ओर अग्रसर है और जो लोग स्वतंत्रता संग्राम के समय अंग्रेज शासकों की मुखबरी किया करते थे वह साम्राज्यवादियों की एजेन्ट की भूमिका में है।

अन्त में उन्होंने कार्यक्रम में पधारे समस्त अतिथियों तथा पार्टी कार्यकर्ताओं के प्रति अपना आभार व्यक्त किया।

कार्यक्रम में वामपंथी विचारधारा के लेखक अनिल राजिमवाले द्वारा रचित पुस्तिका ’’मुखबिर राज और आजादी के महानायक भाग-2 का विमोचन मुख्य अतिथि अतुल कुमार अंजान सहित अन्य अतिथिगणों ने किया। उर्दू दैनिक इंकलाब के जिला संवाददाता तारिक खान द्वारा संचालित कार्यक्रम में डॉ. कौसर हुसैन और शिवदर्शन वर्मा ने भी अपने विचार रखे।

    इस अवसर पर उपस्थित प्रमुख व्यक्तियों में साहित्यकार डाॅ0 विनय राज, पंण्डित राजनाथ शर्मा, मूसा खा ईंसान, डाॅ0 श्याम सुन्दर दीक्षित, डाॅ0 एस0एम0 हैदर, कामरेड प्रवीन कुमार, विनय कुमार सिंह, पत्रकार फैजान मुसन्ना महन्त बी0पी0दास, पर्यावरण विद्य हाजी सलाउद्दीन किदवाई, एडवोकेट विजय प्रताप सिंह, आनन्द सिंह, अरविन्द सिहं, नीरज वर्मा, गौरी रस्तोगी, अंशूलता मिश्रा, गाजी अमान, अलाउद्दीन, श्याम सिंह, भूपेन्द्र पाल सिंह, शिवम सिंह, आशीष शुक्ला, महेन्द्र यादव, अंकित चैधरी, दल सिंगार, अविनाश वर्मा, आदि रहे।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations