अगर घर ही लक्ष्मण-रेखा है, तो मोदीजी किसान अपने खेत जा सकता है कि नहीं ? ये देश 21 दिन के लॉकडाउन के लिये तैयार नहीं

If the house itself is Laxman-Rekha, then Modiji farmer can go to his field or not? This country is not ready for 21 days lockdown

ये देश 21 दिन के #लाकडाउन के लिये तैयार नहीं है।

सबसे बड़ी बात, ये सरकार 130 करोड़ जनता को, रोज़मर्रा को सुविधायें मुहैया कराते हुए, दिहाड़ी मज़दूरों तक बुनियादी सुविधायें पहुंचाते हुए, किसानों की फसल की कटाई/ बिक्री गारंटी करते हुए, लोकतांत्रिक ढंग से, घर में रखने के काबिल नहीं है! सरकारी मशीनरी/ लेखपाल, ब्लाक/ तहसील अधिकारी/ प्रधानों इत्यादि का भ्रष्टाचार 100 गुना बढ़ जायेगा!

उच्च वर्ग ने तो घर में सामान स्टोर कर लिया है! पर किसानों और गरीबों पर ज़ुल्म बढ़ेगा, क्यूंकि यहां की पुलिस को जरूरी सेवाओं वाले लोगों और अन्य में फर्क करने की ट्रेनिंग है ही नहीं! पत्रकारों तक को तो दिल्ली में पुलिस पीट देती है!

अगर घर ही लक्ष्मण-रेखा है, तो किसान अपने खेत जा सकता है कि नही–ये भी साफ नहीं है!

अमरेश मिश्रा

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार व इतिहासकार हैं। वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरुद्ध चुनाव लड़ चुके हैं।)

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations