भूख से बड़ा मजहब और रोटी से बड़ा ईश्वर हो तो बता देना मुझे भी धर्म बदलना है…

भूख से बड़ा मजहब और रोटी से बड़ा ईश्वर हो तो बता देना मुझे भी धर्म बदलना है…

आज़मगढ़ 14 मई 2020.  मुल्क में एक तरफ घर वापसी हो रही है दूसरी तरफ ऐसे बहुत से मज़दूर साथी हैं जिनके घर नहीं हैं, हैं भी तो वहां इससे भी बुरा हाल हो न जाए वो जहां हैं वहीं रह गए हैं.

आज़मगढ़ के सलारपुर, जगदीशपुर में कूड़ा बीनने वाले (Garbage Pickers) और घूम-घूमकर छोटे-मोटे समान बेचने वाले प्रवासी मजदूरों (Migrant labor) के बीच विनोद यादव, अवधेश यादव, राजेश और विभिन्न साथियों के सहयोग से बस्ती के लोग खुद बना और खा रहे हैं.

विनोद यादव का कहना है कि हमारी कोशिश है कि कोई प्रवासी मजदूर जो भी हमारे जिले में है वो भूखा न सोए. साथ-सहयोग से हम आज पल्हनी और अन्य जगहों पर भी यह प्रयास करेंगे. वे बताते हैं कि हमने इन्हें प्रशिक्षित भी किया है कि सभी अच्छे से साबुन से नहाकर ही खाना बनाएं और खाने से पहले अच्छी तरह हाथ धोएं.

वीर भूमि, 24 परगना पश्चिम बंगाल, कटिहार बिहार के मजदूर साथियों के बारे में अवधेश यादव बताते हैं कि हिन्दू-मुसलमान सब मिलजुलकर बनाते-खाते हैं.

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner