भूख से बड़ा मजहब और रोटी से बड़ा ईश्वर हो तो बता देना मुझे भी धर्म बदलना है…

आज़मगढ़ 14 मई 2020.  मुल्क में एक तरफ घर वापसी हो रही है दूसरी तरफ ऐसे बहुत से मज़दूर साथी हैं जिनके घर नहीं हैं, हैं भी तो वहां इससे भी बुरा हाल हो न जाए वो जहां हैं वहीं रह गए हैं.

आज़मगढ़ के सलारपुर, जगदीशपुर में कूड़ा बीनने वाले (Garbage Pickers) और घूम-घूमकर छोटे-मोटे समान बेचने वाले प्रवासी मजदूरों (Migrant labor) के बीच विनोद यादव, अवधेश यादव, राजेश और विभिन्न साथियों के सहयोग से बस्ती के लोग खुद बना और खा रहे हैं.

विनोद यादव का कहना है कि हमारी कोशिश है कि कोई प्रवासी मजदूर जो भी हमारे जिले में है वो भूखा न सोए. साथ-सहयोग से हम आज पल्हनी और अन्य जगहों पर भी यह प्रयास करेंगे. वे बताते हैं कि हमने इन्हें प्रशिक्षित भी किया है कि सभी अच्छे से साबुन से नहाकर ही खाना बनाएं और खाने से पहले अच्छी तरह हाथ धोएं.

वीर भूमि, 24 परगना पश्चिम बंगाल, कटिहार बिहार के मजदूर साथियों के बारे में अवधेश यादव बताते हैं कि हिन्दू-मुसलमान सब मिलजुलकर बनाते-खाते हैं.

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations