आयरलैंड में लेफ्ट पार्टी ने स्थापित दलों के प्रभाव को समाप्त कर दिया

In Ireland, the left party ended the influence of established parties

सीन फ़िन (Sinn Féin) ने लड़े गए 42 सीटों में से 37 सीटें हासिल करके 24.53% मतों के साथ प्रचंड जीत दर्ज की, जबकि दो स्थापित पार्टियों फाइन गेल और फियाना फेल (Fianna Fáil) ने क्रमशः 20.86% और 22.18% वोट प्राप्त किए।

एक ऐतिहासिक जीत दर्ज करते हुए लेफ्ट विंग सिन फेन आयरिश संसद डेल में दूसरे सबसे बड़े दल के रूप में उभरा। डेल आयरिश संसद का निचला सदन है जिसमें देश में लंबे समय से दो पार्टी का शासन कायम है।

160 सीट वाले डेल के सदस्यों को चुनने के लिए आयरलैंड गणराज्य (Republic of Ireland) में ये आम चुनाव देश भर के 39 बहु-सीटों वाले निर्वाचन क्षेत्रों में 8 फरवरी को हुआ था। इस चुनाव में 62.9% मतदान हुआ।

आयरिश संसद डेल के लिए आम चुनाव (General election for the irish houses of parliament Dáil Éireann)

चूंकि 10 फरवरी को परिणाम घोषित कर दिया गया था ऐसे में सीन फेन को 24.53% मत प्राप्त हुए। इसने 42 सीटों में से 37 सीटें हासिल करके एक शानदार जीत दर्ज की। 2016 में हुए पिछले चुनाव में, इस लेफ्ट विंग पार्टी को 22 सीटें मिली थीं। पिछली डेल की 47 सीटों की तुलना में फाइन गेल केवल 20.86% मतों के साथ 35 सीटें हासिल करने में कामयाब हुई थी। सेंटर-राइट फियाना फेल को 38 सीटें और 22.18% वोट मिले जो 2016 के चुनावों की तुलना में इसके प्रदर्शन 7 सीट कम है।

Sinn Féin’s victory has been credited to its pro-Manifesto manifesto ‘Manifesto for Change’,

सिन फ़ेन की जीत का श्रेय इसके जन-समर्थक घोषणापत्र मेनिफेस्टो फॉर चेंज‘ को दिया गया है, जिसने धन असमानता से निपटने के लिए कदम उठाने और सभी के लिए किफायती आवास, स्वास्थ्य और शिक्षा प्रदान करने का वादा किया है। प्रमुख स्थापित दलों लियो वरादकर के नेतृत्व वाली फाइन गेल सरकार या मिशेल मार्टिन की अगुवाई वाली फियाना फेल सरकार के खिलाफ व्यापक गुस्सा था क्योंकि ये बढ़ती असमानता, श्रम अधिकारों पर हमले और घृणा से संबंधित अपराधों से निपटने में विफल रहीं। फाइन गेल और फियाना फेल द्वारा लागू की गई कठोर नीतियों ने लोगों की नाराजगी को और बढ़ा दिया था।

साभार : पीपल्स डिस्पैच द्वारा न्यूज क्लिक

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations